HomeTechnologyBluetooth क्या है - ये कैसे काम करता है ?

Bluetooth क्या है – ये कैसे काम करता है ?

Bluetooth क्या है: कोई भी तकनीकी इसलिए विकसित की जाती है । जिससे हमारी दिन प्रतिदिन के समस्या को बेहद आसानी से खत्म किया जा सके। इसके लिए हमे ज्यादा इन्वेस्ट भी न करना पड़े और सहज तरीके से हम अत्याधुनिक टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल कर सके।आज इसी कड़ी में हम Bluetooth की उपयोगिता के बारे में जानकारी हासिल करेगे ।

Bluetooth एकमात्र ऐसी तकनीकी है जिसका इस्तेमाल करने के लिए यूजर को कोई शुल्क नहीं देना होता है।यूजर्स इसको बेहद आसानी से इस्तेमाल कर सकते है।एक छोटा बच्चा भी Bluetooth को ऑपरेट कर सकता है।

Bluetooth क्या है

ये यूजर्स को एक मोबाइल से दूसरे मोबाइल में कुछ भी ट्रांसफर करने की सुविधा मुहैया कराता है बशर्ते दोनों यूजर के पास मोबाइल में  Bluetooth मौजूद होना चाहिए।मोबाइल में Bluetooth का इस्तेमाल यूजर्स मल्टीटास्क के लिए करते है।

किसी के मोबाइल में वहीं अगर किसी के मोबाइल में Bluetooth नहीं है तो यह फंक्शन नहीं करेगा यहां तक की ये यूजर्स एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर मे डाटा ट्रांसफर करने में सक्षम है।

मोबाइल के खास फीचर्स के साथ ही आपको ब्लूटूथ का ऑप्शन दिखाई देगा असल में इसका उपयोग क्या है शायद आप इससे वाकिफ नहीं होंगे

क्या आपको पता है कि Bluetooth केवल मोबाइल ही नहीं बल्कि और कई जगह पर होता है तो चलिए आज इस विषय में और भी बातें जानते हैं जैसे कि Bluetooth क्या होता है और यह कैसे काम करता है।

Bluetooth क्या है?

Bluetooth असल में एक वायरलेस तकनीकी है जो कि आपको बिना भुगतान किए एक डिवाइस से दूसरी डिवाइस में डाटा पहुंचाने कि सुविधा प्रोवाइड करता है।

डाटा से अभिप्राय आपकी इमेज ,वीडियो ,मूवी ,पीडीएफ और जरूरी डॉक्यूमेंट या फाइल ट्रांसफर Bluetooth के जरिए कर सकते हैं।

 यहां तक कि यूजर्स इंटरनेट की कनेक्टिविटी को भी साझा कर सकते हैं। मार्केट में Bluetooth एक बहुत ही हाई डिमांड वाली तकनीकी के रूप में जाना जाता है मेरे हिसाब से Bluetooth से हमारी कई समस्या हल हो जाती है।

अगर आपके पास Smart Band या Smartwatch है तो ये आपके मोबाइल पर डाटा ट्रांसफर करने के लिए Bluetooth के साथ फंक्शन करता है। आपके पास वायरलेस स्पीकर है तो  Bluetooth के साथ काम करता है।

वही यदि आपके पास कोई वायरलेस स्पीकर है, जो कि ब्लूटूथ के साथ काम करता है।आपका स्पीकर ब्लूटूथ के जरिए से आपके मोबाइल या लैपटॉप से कनेक्ट होता है और ऐसे में आप जो डिवाइस पर गाना प्ले करते जाएंगे ,वही आपको स्पीकर पर सुनाई देगा।

खास बात तो यह भी है कि इसके लिए आपको किसी तरह की तार या एडाप्टर की कोई जरूरत नहीं है ,लेकिन इसके लिए आवश्यक है कि दोनों इलेक्ट्रॉनिक गजट में ब्लूटूथ के सुविधा मौजूद हो, क्योंकि इसके लिए मौजूद डिवाइस रेडियो तरंगों का उपयोग करते हैं।

Bluetooth की स्पीड और रेंज तक कनेक्ट कर सकता है ?

ब्लूटूथ के जरिए डाटा 10 से लेकर 50 मीटर की रेंज तक आसानी से भेजा जा सकता है। वही अधिक दूरी पर ये काम नहीं करता है। यही वजह है कि इसकी रेंज सीमित होती है।

वह इसकी डाटा ट्रांसफर की स्पीड 24 एमबी तक हो सकती है जो कि एक अच्छी खासी भीड़ है इसमें डाटा ट्रांसफर के लिए FHSS टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जाता है। यही कारण है कि ये एक सिक्योर डाटा ट्रांसफर टेक्नोलॉजी के अंतर्गत आता है।

Bluetooth की History

ब्लूटूथ टेक्नोलॉजी का विकास का जिक्र करे तो इसे सबसे पहले Ericsson Radio System पर काम कर रहे हार्टसन ने साल 1994 में किया था।

इसके बाद Ericsson,IBM,Ericsson Sony,Toshiba जैसी बड़ी कंपनियों ने एकजुट होकर 1999 एस आई जी का गठन किया था।

Bluetooth का यूजर्स के लिए उपयोग

Bluetooth टेक्नोलॉजी विकसित हो जाने से हमारा जीवन काफी आरामदायक हो गया है और इस टेक्नोलॉजी ने हमें तारों के जंजाल से भी मुक्त किया है।

ब्लूटूथ के जरिए हम बिना वायर के अपना कीबोर्ड और माउस को कनेक्ट कर सकते हैं। इसके साथ ही Bluetooth हेडफोन से बिना वायर के आप अपने फोन को जेब में रखें हुए ही किसी से बात कर सकते हैं।

स्पीकर से आप बिना वायर के अपने स्पीकर को कमरे में किसी भी कोने में रखकर गाना सुनने का लुफ्त उठा सकते हैं।इसके अतिरिक्त आप बिना वायर को कनेक्ट किए प्रिंटर से प्रिंटआउट भी निकाल सकने में सक्षम होते हैं।

Bluetooth कैसे फंक्शन करता है ?

आज का दौर इंटरनेट का है और जैसे जैसे टेक्नोलॉजी का विकास होता जा रहा है वैसे ही हमने भी खुद की सहूलियत के लिए नई टेक्नोलॉजी को अपने दैनिक जीवन में अडॉप्ट किया है।ये हमारे लिए कई प्रकार से उपयोगी भी साबित हुई है।ये हमे परिवार और दोस्तों से जोड़े रखने में मदद करती है।आजकल तो बहुत सारी Technologies आई और चली गई।bluetooth असल में एक ऐसा wireless connectivity standard है जोकि radio signals का इस्तेमाल करता है।वही आज के समय में bluetooth सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाला protocol बन गया है।

Bluetooth networking के लिहाज से लो poweradio waves के जरिए से data को संचारित किया जाता है।आपको बता दे कि ये 2.45 GHz frequency पर कम्युनिकेट करता है।ये frequency band कुछ गिनी चुनी frequency में से एक है। इसे औद्योगिक वैज्ञानिक और चिकित्सा उपकरणों (ISM) के लिए अंतरराष्ट्रीय समझौते पर अलग से रखा रखा गया है।

Desktop से कनेक्ट Bluetooth डिवाइस

आप शायद जानते होंगे कि मोबाइल और लैपटॉप में भी bluetooth की सुविधा होती है, लेकिन जब आप अपने डेस्कटॉप से किसी गैजेट को कनेक्ट करना चाहते हैं तो उसके लिए आपके पास ब्लूटूथ की डिवाइस अवश्य रूप से मौजूद होनी चाहिए।

मार्केट में आपको बेहत रीजनेबल कीमत पर ये आपको मुहैया हो जाएंगे। इसकी सहायता से आप अपने डेस्कटॉप कंप्यूटर को प्रिंटर ,माउस ,कीबोर्ड और स्पीकर को कनेक्ट कर सकते हैं।

FAQ

Q : ब्लूटूथ क्या है और कैसे काम करता है?

Ans : ब्लूटूथ एक कम दूरी में काम करने वाली Wireless Technology है जो की दो या इससे अधिक Devices के बीच जैसे Mobile Phones, Computers इत्यादि के बीच Data या Voice को बिना किसी wire की सहायता के सिमित दूरी तक Transmit करता है।

Q : ब्लूटूथ को हिंदी में क्या कहेंगे?

Ans : ब्लूटूथ को हिंदी में “डेटा संप्रेषण प्रणाली” कहते हैं।

Q : ब्लूटूथ की रेंज कितनी है?

Ans : 10m से लेकर 50m तक

अंतिम शब्द

इस तरह से आप हमारे आज के ब्लॉग में Bluetooth से जुड़ी कई उपयोगी जानकारी मिली होगी।जैसे की Bluetooth क्या है ?ये कैसे फंक्शन करता है ? और सबसे महत्वपूर्ण बात Bluetooth की हमारे जीवन में क्या उपयोगिता है।आगे आपके मन में और भी कोई सवाल है तो आप कमेंट करके हमसे पूछ सकते है।मैं उम्मीद करता हूं कि आपको हमारा ब्लॉग बेहद पसंद आया होगा।

Naresh Kumar
Naresh Kumarhttps://howgyan.com
इनका नाम नरेश कुमार है और यह इस ब्लॉग के Founder है । वोह एक Professional Blogger हैं जो SEO, Technology, Internet से जुड़ी विषय में रुचि रखते है । इनको 2 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 4 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here