HomeFinanceCIBIL Score क्या है और कितना होना चाहिए ?

CIBIL Score क्या है और कितना होना चाहिए ?

CIBIL Score क्या है: जब भी आप बैंक में loan लेने जाते हैं तो बैंक आपके CIBIL score को देखता है। तब मन में यह सवाल जरूर उठता है CIBIL score क्या है? और यह इतना जरूरी क्यों है?

 आपकी जानकारी के लिए बता दें कि CIBIL score आपके banking transaction के प्रदर्शन को दिखाता है। यानी आपका बैंक खाता कैसा है? अगर बैंक आपको लोन दे दे तो उसकी क्या possibility है कि  समय पर loan चुका देंगे।

 आइए आज की पोस्ट में हम CIBIL Score क्या है और कितना होना चाहिए ? की पूरी जानकारी प्राप्त करने वाले है।

आखिर CIBIL score क्या है?

 CIBIL score का डाटा  कुछ कंपनियां देखती हैं। इसके जरिए ये company लोगों के CIBIL score का आकलन करती हैं। यानी यह एक प्रकार से data है, जो आपके  banking history के आधार पर निकाला जाता है। अगर आपका सिबिल स्कोर ज्यादा होता है तो आपको loan  मिलने के चांस ज्यादा होते हैं।

 कैसे सुधार सकते हैं CIBIL score

 अगर आपका सिबिल स्कोर अच्छा नहीं है, तो कोई बात नहीं है। आप इसे आसानी से सुधार सकते हैं। इसकी जानकारी आपको नीचे दी गई।

  •  आपको कोशिश यह करनी होगी कि banking transaction अच्छी रहे। समय पर आपके बैंक में लेनदेन होता रहे।
  •  इसके अलावा अच्छी credit history भी आपके CIBIL score को सुधार सकती है। जिसमें आप  अपना बकाया भुगतान समय पर जमा करते रहें।
  •  साथ ही अगर आपने home loan, auto loan, personal loan, credit card bill आदि लिया हुआ है तो इनको समय पर  जमा करें।
  •  अगर आप यह सभी काम 6 से 8 महीने तक लगातार करते हैं। तो आप अपना सिबिल स्कोर आसानी से अच्छा कर लेंगे।
  •  इसके साथ ही ध्यान दें कि अपने credit card की लिमिट ना बढ़वाये, अगर आप के ऊपर लोन हैं तो उसको जल्दी खत्म करें। लेकिन loan settlement की कोशिश बिल्कुल भी मत करें। क्योंकि इससे आपका CIBIL score  गिर सकता है।
  •  इस प्रकार आप ऊपर दिए गए निर्देशों का अच्छी तरह पालन करें और समय-समय पर अपनी credit report देखते रहे।

 CIBIL Score कितना होना चाहिए ?

 वैसे तो CIBIL score 300 से 900 के बीच होता है। लेकिन आपको कोशिश यह करनी चाहिए कि आपका सिबिल स्कोर 750 से ज्यादा हो। क्योंकि जितना ज्यादा सिबिल स्कोर आपका होगा, उतना ही आपको फायदा होगा।

 देखा जाए तो Western countries ने तो 1950 से ही CIBIL score जैसी व्यवस्था कर रखी थी। जबकि भारत ने  ऐसी व्यवस्था 2000 से लागू की है। इससे Bank को आसानी हो जाती है। क्योंकि वह loan risk देख सकता है।

 आपकी जानकारी के लिए बता दें कि CIBIL  full form credit information bureau of India Limited होता है। यह 3 digit number होता है। जो आपकी credit history बताता है।

 India मे credit Bureau company कितनी है ?

 भारत में CIBIL score बताने वाली प्रमुख रूप से 4 company है। जिनकी जानकारी नीचे दी गई है।

CompanyEstablishment
Transunion CIBIL Limited2000
Equifax2010
Experian2006
CRIF highmark2010

 CIBIL score कैसे check करते हैं?

 बता दें कि 79% से ज्यादा लोग जिनका CIBIL score 750 से ज्यादा होता है उनको ही लोन बैंक देते हैं। अगर आप भी अपना CIBIL score देखना चाहते हैं तो नीचे दी गई process follow कर सकते हैं।

  •  सबसे पहले आपको ऑनलाइन फ्री website www.cibil.com पर जाना होगा। वहां होम पेज पर आपको form fill  करना होगा। जिसमें सभी basic information जैसे कि name, address, contact number, PAN card इत्यादि भरनी होगी।
  •  अगर आप Pan details नहीं देंगे तो आप आगे नहीं बढ़ सकते। डिटेल्स देने के बाद आपको कुछ सवालों के जवाब देने होंगे।
  •  उसके बाद आपकी credit report को चेक किया जाएगा। और आपको CIBIL score दे दिया जाएगा।

 CIBIL score को कौन-कौन से Factors प्रभावित करते हैं?

 सिबिल स्कोर पर बहुत सारे factors effect डालते हैं। जिनके बारे में जानकारी नीचे दी गई है।

  •  अगर आपने मान लो कोई लोन लिया है। लेकिन उसकी EMI समय पर नहीं चुकाई है। तो यह आपके CIBIL score पर बहुत बुरा असर डालती है। इसलिए आपको loan या तो पूरा समय पर चुका देना है या फिर  समय से EMI देनी चाहिए।
  •   loan लेने के लिए आपने अलग-अलग Bank मे apply किया है। लेकिन मान लो किसी वजह से आपको किसी भी बैंक में loan application reject हो जाती है तो यह आपके CIBIL score  पर नकारात्मक असर डालता है। क्योंकि loan application registered हो जाती है। अगर आपकी application reject हो जाती है तो यह पता credit score company को पता चल जाता है। जिससे आपका सिबिल स्कोर गिर जाता है।
  • जब भी आप किसी अपने friend या relative के loan guarantee लेते हैं। तो यह भी आपके CIBIL score  पर असर डालता है। मान लो आपने किसी के लोन की guarantee ली। वह किसी भी तरह से लोन चुकाने में कामयाब नहीं रहता है। तो loan guarantor पर भी इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। उसके CIBIL score  मे भी माइनस मार्किंग हो जाती है।
  •  Credit card लेने के बाद अगर आपकी transaction अच्छी चल रही है तब तो कोई बात नहीं। लेकिन अगर आपकी ट्रांजैक्शन  मे बीच-बीच में कुछ गड़बड़ हो जाती है या आप समय पर credit limit के अनुसार payment नहीं कर पाते हैं तो आप पहले अपनी credit limit को सही करिए। किसी भी कीमत पर credit limit को मत बढ़वाइये। क्योंकि इससे आपकी CIBIL score गिर जाती है।

FAQ

Q : लोन के लिए सिबिल स्कोर कितना होना चाहिए?

Ans : अगर आपका सिबिल स्कोर 750 से कम है तो आपको किसी भी तरह का लोन मिलने का चांस बहुत ही कम है।

Q : सिबिल स्कोर कितने दिन में अपडेट होता है?

Ans : सिबिल स्कोर 45 दिन के बाद अपडेट होता है।

निष्कर्ष

उम्मीद है आज की पोस्ट से आपको काफी अच्छी तरह समझ आ गया होगा कि CIBIL Score क्या है और कितना होना चाहिए ? इसी तरह की important information के लिए वेबसाइट से जुड़े रहिए । इसके अलावा किसी भी तरह की कोई भी जानकारी आपको चाहिए तो आप comment कर सकते हैं ।

Naresh Kumar
Naresh Kumarhttps://howgyan.com
इनका नाम नरेश कुमार है और यह इस ब्लॉग के Founder है । वोह एक Professional Blogger हैं जो SEO, Technology, Internet से जुड़ी विषय में रुचि रखते है । इनको 2 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 4 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here