HomeShare MarketWhat is Share Market in Hindi – शेयर बाज़ार क्या है ?

What is Share Market in Hindi – शेयर बाज़ार क्या है ?

शेयर बाज़ार क्या है: दोस्तों आपने शेयर बाजार, mutual fund आदि का नाम तो कई बार सुना होगा, आप में से कई लोगों को इसके बारे में भी पता होगा। लेकिन हमारे भारत देश में बहुत से लोग इस जानकारी से अनजान हैं,

आज इस पोस्ट में मैंने आपको शेयर बाजार से जुड़ी कुछ जानकारी बताई है, जैसे शेयर बाजार क्या है? शेयर बाजार कैसे काम करता है और शेयर बाजार में कैसे निवेश किया जा सकता है? मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि आप इस पोस्ट को पढ़ें ताकि आप इससे जुड़ी जानकारी जान सकें।

शेयर मार्किट क्या है

दोस्तों शेयर बाजार दो शब्दों से मिलकर बना है पहला शेयर और दूसरा बाजार, इन दोनों शब्दों का अपना-अपना अर्थ है, इसलिए शेयर बाजार को समझने से पहले यह समझना जरूरी है कि शेयर क्या है?

शेयर क्या है?

शेयर को हिंदी में अंश और पार्ट भी कहते हैं। जिस कंपनी को अपना व्यवसाय चलाने के लिए धन की आवश्यकता होती है, वह अपनी कंपनी के स्वामित्व को कई भागों में विभाजित करती है, इन भागों को शेयर कहा जाता है।

इन शेयरों या शेयरों को बेचकर, कंपनी को पैसा मिलता है और जो कंपनी इन शेयरों को खरीदती है वह उतना ही मालिक बन जाता है जितना उसने खरीदा है। शेयरों के खरीदार को शेयरधारक कहा जाता है।

शेयरधारक अपने द्वारा रखे गए शेयरों को कंपनी जैसे किसी अन्य व्यक्ति को भी बेच सकता है और किसी अन्य व्यक्ति से भी खरीद सकता है जिसके पास कंपनी के शेयर हैं।

Share Market क्या है – Share Market in Hindi क्या है?

शेयर बाजार एक ऐसा बाजार है जहां शेयरों की खरीद-बिक्री की जाती है, शेयर बाजार में भी खरीदार और विक्रेता आपस में बातचीत करते हैं और सौदे करते हैं। यह कार्य पूर्ण रूप से कम्प्यूटर द्वारा किया जाता है, यद्यपि कम्प्यूटर के पूर्व शेयरों की खरीद-बिक्री का कार्य मौखिक बोलियों के माध्यम से किया जाता था।

शेयर बाजार में शेयरों की कीमतों में काफी उतार-चढ़ाव होता है, जो कंपनी से जुड़ी खबरों पर निर्भर करता है कि कौन खरीदता और बेचता है। भारत में दो स्टॉक एक्सचेंज हैं जहां शेयर खरीदे और बेचे जाते हैं, पहला मुंबई स्टॉक एक्सचेंज है और दूसरा नेशनल स्टॉक एक्सचेंज है। बीएसई और एनएसई दुनिया के सबसे बड़े स्टॉक एक्सचेंज में शामिल हैं। भारत में, अपने शेयरों को बेचने के लिए, किसी कंपनी का इन दोनों स्टॉक एक्सचेंजों में से किसी एक पर सूचीबद्ध होना अनिवार्य है। दोनों में कई कंपनियां लिस्टेड हैं जिनके शेयर कोई भी खरीद सकता है।

शेयर बाजार कैसे काम करता है ?

शेयर बाजार में सबसे महत्वपूर्ण कड़ी है स्टॉक एक्सचेंज यानी शेयर बाजार, जिसमें शेयरों की खरीद-बिक्री का काम होता है। दूसरी महत्वपूर्ण कड़ी वह कंपनी है जिसके शेयर इसमें बेचे जाते हैं और उसके बाद ब्रोकर और निवेशक आता है जो अपने पैसे का निवेश करता है।

ब्रोकर स्टॉक एक्सचेंज के सदस्य होते हैं। ग्राहक सीधे शेयर खरीद या बेच नहीं सकते हैं, इसके लिए स्टॉक एक्सचेंज का सदस्य होना जरूरी है। इसलिए उन्हें ब्रोकर के जरिए ही ट्रेड करना होता है। इन दलालों को शेयर बाजार की अच्छी समझ होती है। यानी शेयर बाजार की चार कड़ी हैं स्टॉक एक्सचेंज, लिस्टेड कंपनी, ब्रोकर और निवेशक।

सबसे पहले लिस्टेड कंपनियां जनता को अपने शेयर तय कीमत पर जारी करती हैं। जब शेयर बाजार में आते हैं तो निवेशकों द्वारा आपस में खरीदने-बेचने का काम दलालों के माध्यम से शुरू होता है।

दोस्तों शेयर की कीमतों में बार-बार बदलाव होते रहते हैं, कभी किसी शेयर की कीमत उसके वास्तविक मूल्य से कम हो जाती है और कभी उसकी कीमत ज्यादा हो जाती है। ऐसी स्थिति में निवेशक को लाभ-हानि का सामना करना पड़ता है। आप सोच रहे होंगे कि स्टॉक की कीमतें क्यों बदलती रहती हैं? तो आइए जानते हैं इसके बारे में

शेयर की कीमतें क्यों बदलती हैं?

जब भी कोई कंपनी अपने शेयरों को बिक्री के लिए जनता को जारी करती है, तो उस शेयर का मूल्य उस कंपनी द्वारा ही निर्धारित किया जाता है। लेकिन बाजार में आने के बाद इसकी कीमतों में बदलाव आता है। यदि बाजार में उस शेयर की मांग अधिक है, अर्थात यदि लोग उसे बड़ी मात्रा में खरीद रहे हैं, तो बाजार में शेयर का मूल्य बढ़ जाता है, जबकि यदि लोग इसे खरीदने में रुचि नहीं दिखाते हैं, तो इसका मूल्य घट जाता है। .

शेयर बाजार में कुछ आंकड़ों और तथ्यों की मदद से यह अनुमान लगाया जाता है कि शेयर की कीमत में क्या बदलाव आने वाला है। हालांकि इसका सही-सही अंदाजा कोई नहीं लगा सकता, लेकिन कई बार ये अनुमान गलत भी साबित हो जाते हैं। इन अनुमानों के अनुसार शेयरों की खरीद-बिक्री होती है, यदि अनुमानों के अनुसार भविष्य में शेयर की कीमत घट सकती है, तो ऐसे में शेयरधारक अपने शेयर बेचना चाहते हैं और वे शेयरों को कम कीमतों पर बेचना शुरू कर देते हैं। जिसका प्रभाव शेयर की कीमत पर पड़ता है और बाजार में उसकी कीमत घट जाती है।

शेयर की कीमत में बदलाव के पीछे और भी कई कारण होते हैं, जैसे अगर कंपनी से जुड़ी कोई नकारात्मक खबर लोगों के बीच फैलती है या कंपनी के प्रबंधन में बदलाव होता है, तो ऐसी स्थिति में भी निवेशक नहीं चाहते हैं। जोखिम उठाएं और नुकसान से बचें। अपने शेयर बेचना शुरू करें। इसके अलावा रिजर्व बैंक की नीतियों, सरकार की नीतियों, कंपनी की लाभ कमाने की क्षमता आदि के प्रभाव से भी शेयर की कीमत में बदलाव आता है।

शेयर बाजार में पैसा कैसे कमाए ?

स्टॉक क्या है, स्टॉक मार्केट क्या है और यह कैसे काम करता है, इसके बारे में आपने जान लिया है, अब मैं आपको बताऊंगा कि आप इसमें कैसे निवेश कर सकते हैं।

शेयर बाजार में निवेश करने के लिए सबसे पहले आपको ब्रोकर के साथ ट्रेडिंग और डीमैट अकाउंट खोलना होगा। क्योंकि इसके बिना आप शेयर बाजार में निवेश नहीं कर सकते।

डीमैट खाता (demat account)

व्यक्ति द्वारा खरीदे गए शेयरों को रखने के लिए डीमैट खाते की आवश्यकता होती है, जिसमें शेयर, जो खरीदे गए हैं, इलेक्ट्रॉनिक रूप में जमा या जमा किए जाते हैं। देश के कई प्रमुख बैंक या उनकी सहायक कंपनियां एक्सचेंज ब्रोकर के रूप में काम करती हैं, इसके अलावा ज़ेरोधा और शेयरखान जैसी कंपनियां भी डीमैट खाते खोलने की सुविधा प्रदान करती हैं।

  ट्रेडिंग खाते (trading account)

इसका उपयोग व्यक्ति द्वारा शेयर खरीदने और बेचने के लिए किया जाता है। इस खाते से व्यक्ति शेयर बाजार में व्यापार कर सकता है। आप अपने दलालों की मदद से यह खाता खोल सकते हैं।

इसके माध्यम से जब कोई व्यक्ति कोई शेयर खरीदता है तो उसे उस व्यक्ति के डीमैट खाते में रखा जाता है और जब कोई शेयर बेचा जाता है तो उसे डीमैट खाते से स्थानांतरित कर दिया जाता है और उसका मूल्य डीमैट खाते से जुड़े बैंक खाते में स्थानांतरित कर दिया जाता है। दिया जाता है।

शेयर बाजार में निवेश करने के लिए आपको ज्यादा पैसे की जरूरत नहीं है, आप कम पैसे से शुरुआत कर सकते हैं और धीरे-धीरे इसमें बढ़ते अनुभव के साथ आप इसमें अधिक राशि का निवेश कर सकते हैं। क्योंकि शेयर बाजार में कई सावधानियां बरतनी पड़ती हैं। बहुत से लोग शेयर बाजार को जुआ मानते हैं, लेकिन वास्तव में इन लोगों को शेयर बाजार के बारे में सही जानकारी नहीं होती है। क्योंकि यह कोई जुआ नहीं बल्कि लंबे समय तक अपना पैसा लगाकर मुनाफा कमाने का जरिया है।

तो अगर आप भी इसमें निवेश करना चाहते हैं तो देर न करें क्योंकि जितनी जल्दी आप शुरुआत करेंगे उतनी ही जल्दी आपको इसमें अनुभव मिलेगा। आप जितनी देर करेंगे, उतना ही अधिक समय नष्ट होगा।

FAQ

Q : भारत में कितने शेयर बाजार है?

Ans : भारत में कुल 21 स्टॉक एक्सचेंज हैं, जिनमें बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) सबसे बड़े हैं। 

Q : भारत का सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज कौन सा है?

Ans : नेशनल स्टॉक एक्सचेंज – यह भारत का सबसे बड़ा और तकनीकी रूप से सबसे अग्रणी स्टाॅक एक्सचेंज है जो मुंबई में स्थित है।

Q : भारत का सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज कौन सा है?

Ans : आज बीएससी के नाम से चर्चित मुंबई स्टॉक एक्सचेंज को वर्ष 1875 में “द नैटिव शेयर एंड स्टॉक ब्रोकर्स एसोसिएशन” के रूप में स्थापित किया गया था. बीएससी भारत का ऐसा पहला स्टॉक एक्सचेंज है।

निष्कर्ष

मुझे उम्मीद है कि आपको हमारी पोस्ट Share Market क्या है पढ़कर काफी जानकारी मिली होगी। आप हमें कमेंट के माध्यम से बता सकते हैं और इस जानकारी को शेयर करके आप हमें और लोगों तक पहुंचने में भी मदद कर सकते हैं।

Naresh Kumar
Naresh Kumarhttps://howgyan.com
इनका नाम नरेश कुमार है और यह इस ब्लॉग के Founder है । वोह एक Professional Blogger हैं जो SEO, Technology, Internet से जुड़ी विषय में रुचि रखते है । इनको 2 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 4 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here