HomeInternetLiFi क्या है और कैसे काम करता है?

LiFi क्या है और कैसे काम करता है?

LiFi क्या है: WiFi के बारे में तो आप जानते ही होंगे, लेकिन क्या आप जानते हैं कि LiFi क्या है? दरअसल, यह WiFi की तुलना में एक आधुनिक तकनीक भी है, जो WiFi की तुलना में तेज डेटा प्रदान करती है।

जहां WiFi हमें रेडियो तरंगों के माध्यम से इंटरनेट का उपयोग करने की अनुमति देता है, वहीं LiFi  डेटा ट्रांसमिशन के लिए रेडियो तरंगों के बजाय Visible Light Communication (VLC) तकनीक का उपयोग करता है।

LiFi क्या है

यह एक ऐसी अत्याधुनिक तकनीक है, जिसकी मदद से आप led बल्ब के जरिए इंटरनेट का इस्तेमाल कर सकेंगे। इसकी इंटरनेट स्पीड 224 Gbps है, जो WiFi से कई गुना ज्यादा है। इस स्पीड में आप पलक झपकते ही कोई भी बड़ी फाइल या मूवी डाउनलोड कर पाएंगे। तो आइए विस्तार से जानते हैं, LI-FI के बारे में सारी जानकारी।

LiFiक्या है? LiFi क्या है हिंदी में?

LiFi का फुल फॉर्म ‘light Fidelity‘ है। यह एक प्रकार की वायरलेस ऑप्टिकल नेटवर्किंग टेक्नोलॉजी है, जिसमें डेटा ट्रांसमिशन के लिए ‘लाइट-एमिटिंग डायोड्स’ का इस्तेमाल किया जाता है। यानी इंटरनेट प्रकाश आधारित है, और इसका उपयोग सूचना प्रसारित करने के लिए किया जाता है। यह WiFiसे काफी अलग है, क्योंकि वाईफाई में सूचना के प्रसारण के लिए रेडियो तरंगों का उपयोग किया जाता है। जबकि LiFi LED बल्ब की मदद से डेटा ट्रांसमिट करता है।

इसका उपयोग करने के लिए सॉलिड-स्टेट लाइटिंग (एसएसएल) जैसे एलईडी बल्ब का उपयोग किया जाता है, जो इंटरनेट तक पहुंच प्रदान करता है। Li-Fi तकनीक के तहत, प्रकाश स्रोत (ट्रांसमीटर) को एक फोटोडायोड रिसीवर द्वारा संशोधित और प्राप्त किया जाता है।

Li-Fi का इतिहास | LiFi का इतिहास

Li-Fi के आविष्कार का श्रेय प्रोफेसर हेराल्ड हास को जाता है, जो Li-Fi के संस्थापक हैं। प्रोफेसर हेराल्ड हास ने 2011 में स्कॉटलैंड में टेड टॉक में LiFiका प्रदर्शन किया। इस दौरान उन्होंने साबित कर दिया कि प्रकाश की मदद से भी संचार किया जा सकता है। वर्तमान में, कई संगठन Li-Fi तकनीक विकसित करने में लगे हुए हैं। हेराल्ड हास बताते हैं कि जिस तकनीक का उपयोग करके सूचना को प्रकाश के माध्यम से भेजा जाता है उसे विज़िबल लाइट कम्युनिकेशन (वीएलसी) कहा जाता है। उन्होंने इस प्रोजेक्ट में साल 2010 से 2012 तक काफी काम किया और 2011 में टेड ग्लोबल टॉक के जरिए लोगों के सामने इसका प्रदर्शन किया।

LiFiकैसे काम करता है? LIFI हिंदी में कैसे काम करता है?

हम जानते हैं कि Li-Fi क्या है और इसका इतिहास क्या है? आइए अब जानते हैं कि आखिर Li-Fi कैसे काम करता है? दरअसल, Li-Fi विजिबल लाइट कम्युनिकेशन से चलता है। यानी LED लाइट की मदद से आप मोबाइल, लैपटॉप, टैबलेट में इंटरनेट का इस्तेमाल कर सकते हैं.

इसका उपयोग तीन मुख्य घटकों से जुड़ा है जिसमें लैंप ड्राइवर, एलईडी बल्ब और फोटो डिटेक्टर शामिल हैं।

दीपक चालक

 यह इंटरनेट स्रोत है, जो इंटरनेट केबल से आने वाली सभी सूचनाओं को LEDBulb के अंदर स्थानांतरित करता है। फिर LED इस जानकारी को BulbLight के माध्यम से Photo Detector तक पहुंचाती है।

फोटो डिटेक्टर

यह सूचना (प्रकाश सूचना) को बाइनरी डेटा में परिवर्तित करता है और इस जानकारी को उपकरणों में स्थानांतरित कर दिया जाता है। WiFiकी डेटा ट्रांसफर क्षमता 224 जीबीपीएस है। इससे पता चलता है कि इसकी स्पीड WiFi से कितनी ज्यादा है।

ली फाई के क्या फायदे हैं? , हिंदी में LIFI के क्या फायदे हैं?

LiFi तकनीक के कई फायदे हैं। इसका सबसे बड़ा फायदा इसकी दक्षता है। आइए जानते हैं इसके अन्य फायदों के बारे में,

1) सुरक्षा

जैसा कि आप जानते हैं, WiFi डेटा ट्रांसफर करने के लिए रेडियो तरंगों का उपयोग करता है और इन रेडियो तरंगों में दूर-दूर तक यात्रा करने की क्षमता होती है। रेडियो तरंगें भी दीवारों को पार करती हैं। हालाँकि, Li-Fi के साथ ऐसा नहीं है और यह एक सीमित क्षेत्र में रहता है, जिससे यह काफी सुरक्षित माना जाता है।

2) गति

LiFiकी स्पीड WiFi से कई गुना ज्यादा होती है। कहा जाता है कि इसकी स्पीड WiFi की डेटा ट्रांसमिशन स्पीड से 100 गुना ज्यादा है, क्योंकि यह 224 जीबी प्रति सेकेंड की दर से डाटा ट्रांसफर करती है।

3) प्रयोग करने में आसान

Li-Fi का इस्तेमाल करना बहुत ही आसान है। एलईडी बल्ब हर घर में मिल जाता है और इस तकनीक के तहत एलईडी बल्ब से इंटरनेट तक पहुंचा जा सकता है। इस तरह, आप अपने घर और कार्यालय में WiFi प्राप्त करने की अतिरिक्त लागत को बचा सकते हैं।

4) बिजली की खपत

Li-Fi का उपयोग करने के लिए उपयोगकर्ता को ऊर्जा की खपत के बारे में चिंता करने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि अधिकांश लोगों के घरों और कार्यालयों में प्रकाश स्थापित होता है।

Li-Fi लाइट से बहुत तेज गति से जुड़ता है, जिससे डाटा ट्रांसमिशन भी तेज गति से होता है।

दुनिया भर में 14 अरब लाइट बल्ब हैं। ऐसे में जितनी ज्यादा लाइटें होंगी, उतने ज्यादा LiFi नेटवर्क उपलब्ध होंगे।

LiFiके क्या नुकसान हैं? , हिंदी में LiFi के क्या नुकसान हैं?

Li-Fi एक बहुत ही नई तकनीक है और इस वजह से इसके Infrastructure में कई कमियां हैं। जैसा कि आप जानते हैं, Li-Fi अभी अपने शुरुआती चरण में है। आम जनता के लिए Li-Fi का उपयोग करने में अभी काफी समय बाकी है। आइए जानते हैं Li-Fi के नुकसान और सीमाओं के बारे में।

1) सीमित क्षेत्र

हमने ऊपर उल्लेख किया है कि Li-Fi दीवारों को पार नहीं करता है, जिसके कारण इसे काफी सुरक्षित माना जाता है। हालाँकि, सुरक्षा के साथ इसकी सबसे बड़ी कमी यह है कि आप इसे केवल एक सीमित क्षेत्र में ही उपयोग कर सकते हैं।

इसका उपयोग खुले स्थानों में नहीं किया जा सकता है। WiFi खुली जगह में 32 मीटर तक पहुंच सकता है। वही Li-Fi क्षमता केवल 10 मीटर है।

2) संगतता

Li-Fi तकनीक नई है, इसलिए अभी तक ऐसे उपकरण नहीं बनाए गए हैं जिनसे Li-Fi चल सके, क्योंकि अधिकांश उपकरणों में अभी भी Wi-Fi का उपयोग करने के लिए हार्डवेयर है।

3) लाइट बल्ब का प्रयोग

बिना लाइट के WiFi का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। इसका इस्तेमाल करने के लिए लाइट ऑन करना जरूरी है।

4) सूरज की रोशनी में रुकावट

आशंका जताई जा रही है कि धूप के कारण LiFi बाधित हो सकता है। WiFi की तुलना में LiFi एक महंगी तकनीक है।

FAQ

Q : लाईफाई क्या होता है?

Ans : वाई-फाई या वाईफाई (अंग्रेज़ी: Wi-Fi) रेडियो तरंगों की मदद से नेटवर्क और इंटरनेट तक पहुँचने की एक युक्ति है। यह वाई-फाई एक्सेस प्वाइंट के इर्द-गिर्द मौजूद मोबाइल फोनों को वायरलैस इंटरनेट उपलब्ध कराने का काम करता है।

Q : Li-Fi तकनीक क्या है और यह कैसे काम करती है?

Ans : Li-Fi वायरलेस कम्युनिकेशन पर काम करने वाली एक तकनीक है, जहां डिवाइस डाटा ट्रांसमिट के लिए प्रकाश(लाइट) का इस्तेमाल करता है। नई दिल्ली(टेक डेस्क)। Li-Fi का पूरा फुल फॉर्म है Light Fidelity। यह वायरलेस कम्युनिकेशन पर काम करने वाली एक तकनीक है, जहां डिवाइस डाटा ट्रांसमिट के लिए प्रकाश (लाइट) का इस्तेमाल करता है।

निष्कर्ष

हमें उम्मीद है कि इस लेख को पढ़ने के बाद WiFi और LiFi को लेकर आपका भ्रम दूर हो गया होगा। इसके अलावा आपके पास Li-Fi क्या है? LiFi कैसे काम करता है? Li-Fi का इतिहास, इसके फायदे-नुकसान से जुड़ी तमाम जानकारियां जान गई होंगी।

Naresh Kumar
Naresh Kumarhttps://howgyan.com
इनका नाम नरेश कुमार है और यह इस ब्लॉग के Founder है । वोह एक Professional Blogger हैं जो SEO, Technology, Internet से जुड़ी विषय में रुचि रखते है । इनको 2 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 4 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here