HomeJankariआसमान नीला क्यों होता है ?

आसमान नीला क्यों होता है ?

आसमान नीला क्यों होता है: आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले है की आसमान नीला क्यों होता है आप दिन में बहुत बार आसमान की तरफ देखते होंगे और सोचते होंगे की आसमान नीला क्यों होता है।

आसमान नीला क्यों होता है

विज्ञान की माने तो आसमान का कोई अपना रंग नहीं होता है और अगर कोई अन्तरिक्ष से पृथ्वी को देखता है तो काले रंग का दिखाई देता है और अगर कोई पृथ्वी से आसमान को देखता है तो आसमान नीले रंग का दिखाई देता है।

आसमान नीला क्यों होता है

जब सूर्य से आने वाला प्रकाश पृथ्वी के वातावरण में प्रवेश करता है तो वातवरण के कणों से टकराकर इधर-उधर बिखर जाता है लेकिन वातावरण के कण श्वेत प्रकाश के नीले रंग को परावर्तित कर देते हैं ।

प्रकाश के रंगों में से नीले रंग में फैलने की क्षमता अधिक होती है । इसलिए आकाश में आने वाले रंगों में नीले रंग की मात्रा अधिक होती है। इसी कारण आकाश का रंग नीला दिखाई देता है ।

प्रकाश का प्रकीर्णन तरंगदैर्घ्य के चतुर्थ घात के व्युत्क्रमानुपाती होता है । चूंकि नीले रंग की तरंगदैर्घ्य सबसे कम होती है। अतः नीले रंग का प्रकीर्णन सबसे अधिक होता है। इस कारण आकाश नीला दिखाई देता है ।

जब सूर्य का प्रकाश हमारे वायुमंडल में प्रवेश करता है तो वह हमारे वायुमंडल में मौजूद कणों से टकराता है । सूर्य से आने वाला प्रकाश कई तरंगो से बना होता है । इन किरणों से मुख्य रूप में हम 7 कलर आसानी से देख सकते है ।

प्रकाश का दृश्यमान स्पेक्ट्रम
प्रकाश का दृश्यमान स्पेक्ट्रम

जिनमें नीले रंग की वेवलेंथ छोटी होने के कारण यह वायुमंडल में मौजूद कणों द्वारा बिखेर दिया जाता है जबकि इसमें लाल रंग की वेवलेंथ लम्बी होती है इसलिए यह रंग कणों द्वारा बहुत कम बिखरता है। आसमान में इस नीले रंग के सबसे ज्यादा बिखरने के कारण ही आसमान नीला दिखाई देता है ।

अलग रंगों की तरंगें अलग तरह से मुड़ती है और अलग तरह से बिखरती भी हैं। इसीलिए तो प्रिज्म और इंद्रधनुष में ये तरंगें अलग अलग दिखाई देती हैं।

ऐसा ही कुछ इनके बिखरने की प्रक्रिया में भी होता है। और होता यह है कि नीले और बैंगनी रंग की तरंगे ही हवा के गैसीय अणुओं से टकरा कर आसानी से और सबसे ज्यादा बिखरती हैं और हमारी आंखों तक पहुंच जाती हैं जिससे हमें आसमान नीला दिखाई देता है।

ये भी पढ़े :-

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

आसमान में कितने रंग होते हैं?

सूर्य के प्रकाश को किसी प्रिज्म से गुजारा जाए तो आसानी से इन सात रंगों को देखा जा सकता है।

आसमान का रंग कौन सा है?

आसमान का कोई एक रंग नहीं होता है और यह अलग अलग समय में अलग अलग रंग में दिखाई देता है।

अंतिम शब्द

तो आप जान गये होंगे की आसमान का रंग नीला क्यों होता है और आपको इस आर्टिकल से सम्पूर्ण जानकारी मिल गयी होगी तो इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करे और आपके मन में कोई सवाल है तो आप हमें निचे कमेंट सेक्शन में पूछ सकते है।

Naresh Kumarhttps://howgyan.com
नमस्कार दोस्तों, मैं नरेश कुमार HowGyan.com का Founder & Author हूँ,आपको इस वेबसाइट पर मैं SEO,Technology और Education के बारे में अपने इस ब्लॉग पर लिखता हूँ अगर आपको इन सभी के बारे में जानकारी चाहिये तो इस ब्लॉग के पोस्ट को जरुर पढ़े ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here