Barcode क्या है और कैसे काम करता है ?

Barcode क्या है: आज के इस लेख में हम आपको Barcode क्या है और कैसे काम करता है इसके बारे में जानकारी देने वाले है। शायद ही कोई ऐसा इंसान होगा जिसने बारकोड नाम न सुना होगा या फिर कभी barcode नही देखा होगा।

चलो एक बार के लिए यदि हम यह भी मान ले की कुछ लोगो ने barcode का नाम नही सुना होगा, परंतु barcode सभी ने देखा ही होगा। क्योंकि आप जब भी कोई भी चीज खरीदते है तब उस चीज पर barcode रहता ही है। और बारकोड के साथ ही आपने कई बार किसी दुकान या मॉल में barcode scanner भी देखा ही होगा।

Barcode क्या है

बहुत से लोग ऐसे होते है जिन्हें पता ही नही रहता है कि barcode क्या होता है। कई बार आप कोई चीज खरीदते है तो आपने देखा होगा कि उस चीज पर काली काली सीधी लाइन्स का एक स्टीकर होता है जो कि कई बार किसी चीज पर प्रिंट करके भी रहता है। तो ऐसे में आप सोचते रहते है कि आखिर यह चीज क्या है।

तो दरअसल वह काली काली सीधी लाइन्स ही barcode होती है। अब शायद आप थोड़ा समझ गए होंगे कि आपने barcode कई बार देखा है। तो चलिए अब हम नीचे आपको barcode क्या होता है और यह कैसे काम करता है यह बताते है।

Barcode क्या होता है ?

यदि आपको नही पता कि barcode क्या है तो कोई बात नही हम आपको बता देते है। वैसे यदि barcode को सीधे सीधे language में define करे तो यह काली और सफेद समांतर लाइने होती है जिसमे information store करके रखी जाती है, यह barcode को समझने की सबसे अच्छी व्याख्या थी।

वही यदि हम इसे टेक्निकल तरीके से समझे तो barcode यह एक मशीन रिडेबल कोड होता है जो आपको नंबर और लाइन्स के फॉरमेट में दिखता है। और इसे स्कैन करने के लिए आपको barcode scanner की जरूरत भी पड़ती है।

आपने देखा होगा कि आप कोई भी प्रोडक्ट को खरीदते है तो आपको barcode दिखता ही दिखता है। वैसे देखा जाए तो barcode यह उस प्रोडक्ट की पूरी जानकारी अपने कोड में समाकर रखता है और साथ ही यह हर बिज़नेस में काफी मददगार भी साबित होता है। आप बारकोड को स्कैन करके उस प्रोडक्ट की पूरी जानकारी आसानी से प्राप्त कर सकते है। शायद ही ऐसा कोई प्रोडक्ट होगा जिसपर बारकोड न हो, क्योंकि अब हर प्रोडक्ट के अपने अपने barcode होते है।

यदि हम पहले के barcode की बात करे तो उनकी डिज़ाइन बहुत ही अलग थी जिसमे सिर्फ black lines ही रहती थी, परंतु अब ऐसा नही रहा है। अब बारकोड की डिज़ाइन काफी आसान बना दी गयी है और इसे रीड करना भी काफी आसान हो गया है। पहले barcode को रीड करने के लिए बारकोड स्कैनर का उपयोग करना पड़ता था वही अब आप अपने मोबाइल से भी बारकोड को स्कैन करके read कर सकते है। तो अब आप जान चुके है कि barcode क्या होता है। चलिए अब हम आपको बारकोड के प्रकार बताते है।

बारकोड के कितने प्रकार होते है ?

यदि आप ऐसा सोच रहे होंगे कि बारकोड मतलब बारकोड होता है और यह सिर्फ एक प्रकार का ही होता है, तो आप पूरी तरह से गलत सोच रहे है। क्योंकि बारकोड के भी प्रकार होते है, और बारकोड के 2 प्रकार है जो कि हम आपको नीचे बताने जा रहे है।

  1. डायमेंशनल बारकोड

1 डायमेंशनल बारकोड यह एक नार्मल बारकोड होता है और दिखने में भी साधारण सा और आसान दिखता है। इस बारकोड में लाइनों के रूप में डेटा स्टोर रहता है।

  1. डाइमेंशनल बारकोड

2 डायमेंशनल बारकोड यह 1 डायमेंशनल बारकोड से अलग होता है क्योंकि इसमें डेटा दो तरफ से स्टोर होता है। और आप इसका डेटा दोनो तरफ से रीड कर सकते है। कई बार यह आपको QR code की तरह भी दिखता है।

तो अब आपने barcode क्या होता है यह जान लिया है। चलिए अब हम आपको बताते है कि आखिर यह barcode काम कैसे करता है।

Barcode काम कैसे करता है ?

बारकोड क्या होता है यह तो आपने जान लिया है, परंतु बहुत से लोगों के दिमाग मे यह भी सवाल आता होगा कि आखिर यह बारकोड काम कैसे करता है। तो हम अब आपको आपके इसी सवाल का जवाब देने जा रहे है।

जैसा कि आप सभी लोग जानते ही है कि बारकोड को पढ़ने के लिए स्कैनर का उपयोग किया जाता है जो कि scanner यह पहले बारकोड के symbol को समझता है और फिर उन्हें information में बदल देता है। और यह information किस भी प्रोडक्ट के बारे में information होती है। जैसे उस प्रोडक्ट का price, type, location यह सभी रह सकती है।

जब भी हम स्कैनर से से स्कैन करते है तो यह डेटा रीड करता है और automatically उस इनफार्मेशन को सिस्टम में सेव कर देता है। तो इसी तरह से barcode काम करता है। तो अब आप जान चुके है कि barcode किस तरह से काम करता है। चलिये अब हम आपको बारकोड के कुछ फायदे और नुकसान बताते है।

Barcode के फायदे क्या है ?

वैसे तो बारकोड के बहुत सारे फायदे है, परंतु यहां पर हम आपको कुछ महत्वपूर्ण फायदे बता रहे है।

  1. barcode से किसी भी प्रोडक्ट की information आसानी से प्राप्त कर सकते है।
  1. बारकोड के कारण कंप्यूटर को कोई भी प्रोडक्ट पहचानने में आसानी हो जाती है।
  1. बारकोड से उस प्रोडक्ट की information प्राप्त करने में समय की काफी बचत होती है।

यह तो थे बारकोड के कुछ फायदे, परंतु जिस तरह से किसी चीज के फायदे होते है तो उसी तरह से उस चीज के कुछ नुकसान भी होते है। तो आपने अभी फायदे तो जान लिए है, चलिए अब हम आपको बारकोड के नुकसान भी बता देते है।

Barcode के नुकसान क्या है ?

नीचे हम आपको barcode के कुछ महत्वपूर्ण नुकसान बता रहे है जो आपको पता होना जरूरी है।

  1. बारकोड का सबसे बड़ा नुकसान यह है कि इसमें आप बहुत ज्यादा information store करके नही रख सकते है।
  1. यदि बारकोड खराब हो जाता है या फिर किसी कारण वह मिट जाता है तो आप उसे रीड नही कर सकते है।

ये भी पढ़े:-

FAQ

Q : बारकोड में कितने डिजिट होते हैं?

Ans : इसमें 10 लाइनें होती है जिसमें 5 उत्‍पाद तथा आपूर्तिकर्ता तथा अंतिम 5 उत्‍पाद की जानकारी देते है।

Q : बारकोड के आविष्कारक कौन है?

Ans : जोसेफ वुडलैंड तथा बर्नाड सिल्‍वर

Q : बारकोड कितने प्रकार का होता है?

Ans : बारकोड मुख्यतः चार प्रकार के होते हैं. जिनमें पेन स्कैनर, लेज़र स्कैनर, CCD (Charge Coupled Device) स्कैनर तथा 2D कैमरा स्कैनर होते हैं। प्रत्येक बार कोड की शुरुआत स्पेशल कैरक्टर के साथ होती है, जिसे स्टार्ट कोड कहा जाता हैं।

निष्कर्ष (Conclusion)

उम्मीद करता हु की आपको पता चल गया होगा की Barcode क्या है होता है और Barcode के क्या फायदे है और क्या नुकसान है तो अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आये तो अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करें और कोई सवाल है तो आप हमें निचे कमेंट सेक्शन में पूछ सकते है ।

Naresh Kumar
Naresh Kumarhttps://howgyan.com
इनका नाम नरेश कुमार है और यह इस ब्लॉग के Founder है । वोह एक Professional Blogger हैं जो SEO, Technology, Internet से जुड़ी विषय में रुचि रखते है । इनको 2 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 4 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here