Black Box क्या होता है | What is Black Box in Hindi

Black Box क्या होता है: ब्‍लैक बॉक्‍स हवाई जहाज का सबसे महत्वपूर्ण अंग होता है । मुख्य तौर पर हादसे के वक्‍त यह बॉक्‍स दुर्घटना के कारणों का पता लगाने के लिए बेहद अहम भूमिका निभाता है ।

ब्लैक बॉक्स किसी विमान या हेलीकॉप्टर के अंतिम हिस्से में फिट होने वाला एक महत्वपूर्ण उपकरण होता है जिसका मुख्य उद्देश्य हवाई जहाज की उड़ान सम्बंधित सभी गतिविधियों का डेटा एक जगह रिकॉर्ड करना है ताकि विमान क्रेश या कोई हादसा होने के बाद उस डेटा के जरिये हादसों की असली वजह को जाना जा सके ।

Black Box क्या होता है | What is Black Box in Hindi

ब्‍लैक बॉक्‍स हवाई जहाज का सबसे अहम अंग होता है, खासतौर से हादसे के वक्‍त। यह बॉक्‍स दुर्घटना के कारणों का पता लगाने के लिए बेहद अहम भूमिका निभाता है । पुराने समय मे हवाई दुर्घटनाए तथा हादसे अधिक होते है जिससे कई बड़ी बड़ी हस्तियों तथा राजनेताओं की जान को खतरा रहता था लेकिन ये हवाई दुर्घटनाए किन कारणों से होती थी यह कोई नही जान सकता था ।

Black Box क्या होता है ?

इन्ही हवाई हादसों के कारणों को पता लगाने के लिए ब्लैक बॉक्स का अविष्कार किया गया । ब्लैक बॉक्स हवाई हादसों के कारण को जान लेता है । ब्लैक बॉक्स इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्डिंग डिवाइस है जिसे विमान दुर्घटनाओं की जांच की सुविधा के लिए विमान में रखा जाता है । ब्लैक बॉक्स को फ्लाइट रिकॉर्डर के नाम से भी जाना जाता है।

ब्लैक बॉक्स किसी भी विमान में होने वाले हादसे या दुर्घटना के बारे में जानकारी प्रदान करता है। साथ ही, हादसा या दुर्घटना होने के बाद भी ब्लैक बॉक्स मदद से किसी भी हादसे के सही कारणों का पता लगाया जा सकता है।

ब्लैक बॉक्स का अविष्कार

50 साल पहले 1954-55 के दौरान हवाई हादसों की संख्या बढ़ रही थीं इसलिए हवाई यात्रा के एक्सपर्ट्स ने एक ऐसा उपकरण बनाने के बारे में सोचा जो हवाई हादसों के कारणो का पता लगा सके तभी ब्लैक बॉक्स का अविष्कार David Ronald de Mey Warren AO (20 March 1925 – 19 July 2010) ने किया  जो कि एक ऑस्ट्रेलियाई वैज्ञानिक थे । इन्हें ब्लैक बॉक्स का जनक कहा जाता है ।

ब्लैक बॉक्स में दो प्रकार के डेटा रेकॉर्डर होते है ।

फ्लाइट डाटा रिकॉर्डर – विमान की गति, ऊँचाई, ईंधन, केबिन या कॉकपिट का तापमान, पायलट की बातचीत, फ्लाइट ऑपरेशन इत्यादि जैसे करीबन 88 प्रकार के डेटा का रिकॉर्ड रहता है । ये सभी डेटा विमान हादसों के 30 दिनों बाद तक ब्लैक बॉक्स में सुरक्षित रहता है । यह बॉक्स 11000°C के तापमान को एक घंटे तक सहन कर सकता है  तथा 260°C के तापमान को 10 घंटे तक सहन करने की क्षमता रखता है |

कॉकपिट वोइस रिकॉर्डर – यह विमान में अंतिम 2 घंटों के दौरान विमान के उड़ान की आवाज को रिकॉर्ड करता है | यह इंजन की आवाज, आपातकालीन अलार्म की आवाज , केबिन की आवाज और कॉकपिट की आवाज को रिकॉर्ड करता है ।  इस बॉक्स का मुख्य उद्देश्य यही होता है कि यह पता चल सके कि हादसे के पहले विमान का माहौल किस तरह का था ।

ब्लैक बॉक्स की विशेषताए

  • ब्लैक बॉक्स 1100°C के तापमान को एक घंटे तक सहन कर सकता है और यह 30 दिन तक बिना विद्युत् के काम करता रहता है |
  • जब ब्लैक बॉक्स किसी जगह पर गिर जाता है तो प्रत्येक सेकेण्ड एक बीप की आवाज लगातार 30 दिनों तक निकालती रहती है |
  • ब्लैक बॉक्स 14000 फीट गहरे समुद्री पानी के अन्दर से भी संकेतक भेजता सकता है |

ब्लैक बॉक्स का कलर

ब्लैक बॉक्स का नाम के अनुसार काला बक्सा हो पर वास्तव में इसका बाहरी रंग नारंगी कलर का होता है । इसे नारंगी रंग के रखने का कारण यह है की किसी भी प्रकार की दुर्घटना या हादसा होने की स्थिति में सब कुछ जल जाने पर भी दुर्घटनास्थल पर इन्वेस्टीगेशन के दौरान इसे आसानी से खोजा जा सकता है ।

शुरुआत में इसका बाहरी रंग लाल होता था  इसके कारण इसे “Red Egg” के नाम से जाना जाता था और फिर इसका नाम ब्लैक बॉक्स होने के पीछे कुछ लोगों का मानते थे की शुरुआत में इस बॉक्स की भीतरी दीवार का रंग काला रखा जाता था जिस कारण इसका नाम ब्लैक बॉक्स रखा गया । साथ ही कुछ लोगों का मानना है की काला रंग दुर्घटना या हादसे को दर्शाता है इसलिए इसका नाम ब्लैक बॉक्स रखा गया ।

ब्लैक बॉक्स कैसे काम करता है ?

ब्लैक बॉक्स टाइटेनियम से बना होता है और यह कई परतों में होने के कारण सुरक्षित रहता है । अगर हवाई जहाज में आग भी लग जाए तो भी ब्लैक बॉक्स के खत्म होने की आशंका लगभग नहीं के बराबर होती है क्योंकि लगभग 1 घंटे तक ये 10000 डिग्री सेंटीग्रेट का तापमान भी सह पाता है तथा इसके बाद भी यह अगले 2 घंटों तक ये बॉक्स लगभग 260 डिग्री तापमान सह सकता है ।

इसकी एक खासियत ये भी है कि ये लगभग महीनेभर तक बिना बिजली के काम कर सकता है यानी अगर दुर्घटनाग्रस्त जहाज को खोजने में वक्त लग जाए तो भी इस बॉक्स में डाटा सेव रहता है ।

ये भी देखे-

FAQ

Q : ब्लैक बॉक्स का कलर कैसे होता है ?

Ans : ब्लैक बॉक्स का नाम के अनुसार काला बक्सा हो पर वास्तव में इसका बाहरी रंग नारंगी कलर का होता है ।

Q : ब्लैक बॉक्स का अविष्कार किसने किया था ?

Ans : क बॉक्स का अविष्कार David Ronald de Mey Warren AO (20 March 1925 – 19 July 2010) ने किया था ?

निष्कर्ष

किसी भी दुखद दुर्घटना के कारणों का पता लगाने के लिए ये  ब्लैक बॉक्स अत्यंत महत्वपूर्ण होता है इससे दुर्घटना या हादसे के बारे पता लगाया जा सकता है । सब से महत्वपूर्ण बात तो ये है कि इस ब्लैक बॉक्स को पानी या जमीन आग मे गिरने पर भी इस ब्लैक बॉक्स को कुछ नहीं होता है।

ये अगर आग में गिर जाता है तो ये जलेगा बिल्कुल भी नहीं तथा अगर ये किसी समुद्र या पानी में गिर जाता है तो ये गिरने के बाद उपर तैरने लगता है ये डूबता भी नहीं और पानी से यह खराब भी नहीं होता है। अगर यह जमीन पर गिरता है तो इसको कोई भी नुकसान नहीं होगा ये सब इसलिए क्योंकि ये एक सब से मजबूत धातु टाइटेनियम से बना हुआ है।

Naresh Kumar
Naresh Kumarhttps://howgyan.com
इनका नाम नरेश कुमार है और यह इस ब्लॉग के Founder है । वोह एक Professional Blogger हैं जो SEO, Technology, Internet से जुड़ी विषय में रुचि रखते है । इनको 2 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 4 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here