BPM Full Form in Hindi – BPM का पूरा नाम क्या है ?

बीपीएम क्या होता है? बी पी एम की फुल फॉर्म क्या होती है? BPM किसे कहते हैं? BPM से जुड़े हर सवाल  से आज हम आपको रूबरू कराएंगे। जिससे आप BPM से संबंधित हर जानकारी से परिचित हो जाएं। आइए देर ना करते हुए, BPM की फुल फॉर्म के बारे में जानते हैं।

BPM Full Form in Hindi

 BPM  की Full Form क्या है ?

आजकल सभी लोगों को बी पी एम की फुल फॉर्म के बारे में जरूर पता होना चाहिए। इसलिए आइए हम आपको बताते हैं, BPM full form क्या है? BPM को अंग्रेजी भाषा में Beats Per Minute बोला जाता है।

जिसको हिंदी भाषा में प्रति मिनट धड़कन कहा जाता है। bpm की फुल फॉर्म दोनों भाषाओं में जानने के बाद, आइए अब इसके बारे में जानते हैं।

 BPM  आखिर है क्या?

बी पी एम की फुल फॉर्म जानने के बाद आपके मन में यह सवाल जरूर आ रहा होगा, कि BPM  क्या है? आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि BPM एक मेडिकल टर्म है। जो हमारी धड़कन से संबंधित होता है। इससे पता चलता है, कि हमारी धड़कन कितनी धड़क रही है। धड़कन का सीधा संबंध  heart से होता है। हमारे हृदय का  pumping करना धड़कन से जुड़ा होता है।

सामान्यता स्वस्थ मनुष्य में 1 मिनट में 72 BPM होती है। हालांकि बच्चों में  यह ज्यादा होती है। जबकि बूढ़ों में यह कम होती है।

 हमारी BPM  क्यों घटती बढ़ती रहती है?

आपने भी अक्सर महसूस किया होगा कि कभी-कभी आप की  heartbeat बहुत तेज हो जाती है। आपको पता नहीं होता ऐसा क्यों होता है। ऐसा निम्न वजह से हो सकता है।

  •  अगर आप जिम करते हैंया कोई भी physical activity करते हैं, तो आपकी दिल की धड़कन तेज हो जाती है।
  •  इसके अलावा अगर आप caffein, tiffin यानी कॉफी या चाय का ज्यादा सेवन करते हैं, तो भी आपकी दिल की धड़कन तेज हो जाती है।

ऐसा इसलिए होता है,जब भी हम physical activity करते हैं, या कुछ ऐसा चीज खाते हैं जो हमारी heart rate बढ़ा देता है। क्योंकि ऐसी चीजों से हमारा हार्ड तेजी से blood को पंप करने लगता है। जिससे तेजी से आपका शरीर में रक्त flow होने लगता है। जब तेजी से रक्त फ्लो होगा body में तो, आपको बहुत energy मिलेगी।

 BPM  कम कब होती है?

कई सारे लोगों की, heartbeat गिरती रहती है। ऐसा ब्लड प्रेशर कम होने की वजह से होता है। क्योंकि हॉट कम गति से काम करने लगता है। जिससे ब्लड का pressure कम हो जाता है, और हमारी बॉडी में खून ज्यादा नहीं जा पाता।

अच्छे से blood flow नहीं हो पाता  है। ऐसा अधिकतर महिलाओं में देखने को मिलता है। ऐसा किसी न किसी वजह से होता है। जिसके लिए आपको तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए। हालांकि घरेलू उपचार में coffee का सेवन ऐसे में फायदेमंद रहता है।

 BPM  ज्यादा होने पर कौन सी बीमारी होती है?

अगर आप की heartbeat तेजी से बीट हो रही है। तो यह निसंदेह खतरे का निशान है। आपको तुरंत doctor को दिखाना चाहिए। अन्यथा आपकी जान भी जा सकती है। तेजी से बीत होना हार्ट रेट के लिए, hypertension माना जा सकता है।

जिसमें आपका हाथ तेजी से ब्लड पंपिंग करता है। जैसे आपको तेज सर दर्द, उल्टी हो सकती है।ऐसी conditions में बिल्कुल भी लापरवाही नहीं करनी चाहिए। आपको तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए।

 BPM  कम होने पर कौन सी बीमारी हो सकती है?

बीपीएम कम होने पर आपको hypotension हो सकता है। जिसमें आपकी हार्टबीट बहुत कम हो जाती है। जिससे आपके शरीर का खून पानी में बदलने लगता है। आपके हाथ पैर सुन पड़ने लगते हैं।

यह ज्यादा खतरनाक होता है। इसको silent killer भी बोला जाता है। तुरंत उसके लिए आपको पेशेंट को कॉफी देनी चाहिए। जल्द से जल्द नजदीकी डॉक्टर के पास ले जाना चाहिए। नहीं तो पेशेंट की जान भी जा सकती है।

ये भी पढ़े:-

HP का फुल फॉर्मAPBS Full Form
GATE की फुल फॉर्मCSP Full Form

FAQ

Q : BPM  की Full Form क्या है ?

Ans : BPM को अंग्रेजी भाषा में beats per minute बोला जाता है। जिसको हिंदी भाषा में प्रति मिनट धड़कन कहा जाता है।

Q :  BPM  कम होने पर कौन सी बीमारी हो सकती है?

Ans : BPM कम होने पर आपको hypotension हो सकता है। जिसमें आपकी हार्टबीट बहुत कम हो जाती है। जिससे आपके शरीर का खून पानी में बदलने लगता है। आपके हाथ पैर सुन पड़ने लगते हैं।

अंतिम शब्द

उम्मीद है की आपको BPM  की फुल फॉर्म के बारे में पता चल गया होगा और अगर आपको BPM के बारे में सम्पूर्ण जानकारी मिल गयी होगी तो इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शेयर करे और कोई सवाल है तो निचे कमेंट सेक्शन में पूछ सकते है ।

Naresh Kumar
Naresh Kumarhttps://howgyan.com
इनका नाम नरेश कुमार है और यह इस ब्लॉग के Founder है । वोह एक Professional Blogger हैं जो SEO, Technology, Internet से जुड़ी विषय में रुचि रखते है । इनको 2 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 4 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here