HomeQnAPlaster of Paris Ka Sutra | प्लास्टर ऑफ पेरिस का रासायनिक सूत्र क्या है ?

Plaster of Paris Ka Sutra | प्लास्टर ऑफ पेरिस का रासायनिक सूत्र क्या है ?

ज हम बात करने वाले है की Plaster of Paris Ka Sutra (प्लास्टर ऑफ पेरिस का रासायनिक सूत्र क्या है) और इसका उपयोग क्या है और कहा पर किया जाता है ये सब आपको इस आर्टिकल में पता चलेगा ।

प्लास्टर ऑफ पेरिस जिप्सम से बना हुआ, एक सफेद रंग का पाउडर है, जिसका उपयोग पट्टियों के लिए और ढलाई तथा मूर्तिकला आदि कार्यों के लिए किया जाता है । प्लास्टर ऑफ पेरिस रासायनिक रूप से, कैल्शियम सल्फेट हेमीहाइड्रेट है, जोकि जिप्सम को गर्म करने के बाद प्राप्त होता है ।

प्लास्टर ऑफ पेरिस का रासायनिक सूत्र क्या है

इसका नाम प्लास्टर ऑफ पेरिस इसलिए पड़ा, क्योंकि इसके निर्माण में प्रयोग किए जाने वाला जिप्सम मुख्य रूप से पेरिस में पाया गया था ।

Plaster of Paris Ka Sutra – प्लास्टर ऑफ पेरिस का रासायनिक सूत्र क्या है ?

Plaster of Paris Ka Sutra या इसका रासायनिक सूत्र (CaSo4) H2O है और प्लास्टर ऑफ़ पेरिस (Plaster of Paris) का रासायनिक नाम कैल्सियम सल्फेट हाइड्रेट होता है ।

Plaster of Paris Ka Sutra : (CaSo4) H2O

Plaster of Paris Ka Sutra

प्लास्टर ऑफ पेरिस के उपयोग (Plaster of Paris Uses) 

प्लास्टर ऑफ पेरिस के बहुत से उपयोग है उनमे से कुछ निचे दिए हुए है :-

  • टूटी हुई हड्डियों पर प्लास्टर करने में उपयोग किया जाता है ।
  • प्लास्टर ऑफ़ पेरिस का उपयोग चॉक(ब्लैक बोर्ड पर लिखने के लिए) बनाने के लिए भी किया जाता है ।
  • खिलौने तथा मूर्तियों बनाने में इसका उपयोग होता है ।
  • दातो के इलाज में भी प्लास्टर ऑफ़ पेरिस का विभिन्न उद्देश्य से उपयोग होता हैं ।
  • सांचे बनाने में इसका उपयोग किया जाता है ।
  • लकड़ी के वस्तु में दरार और छेद को भरने में प्लास्टर ऑफ़ पेरिस का उपयोग होता हैं ।
  • घरों में दीवारों की दरार और छेद को भरने के लिए प्लास्टर ऑफ़ पेरिस का उपयोग किया जाता हैं ।

प्लास्टर ऑफ़ पेरिस कैसे बनाते हैं ?

प्लास्टर ऑफ़ पेरिस बनाने के लिए जिप्सम को भट्टी के अन्दर 120–180 °C (248–356 °F) के तापमान पर गर्म किया जाता हैं । इस पूरी प्रक्रिया में तीन चौथाई भाग जल जाता हैं और जलने के बाद जो वस्तु शेष रहती हैं । उसे प्लास्टर ऑफ़ पेरिस कहा जाता हैं ।

CaSO4 . 2 H2O → CaSO4 . 1/2 H2O + 3/2 H2O

जब जिप्सम को 120–180 °C (248–356 °F) पर गर्म किया जाता है, तो यह पानी के अणुओं को खो देता है और कैल्शियम सल्फेट हेमीहाइड्रेट (calcium sulfate hemihydrate) में बदल जाता है ।

तत्पश्चात यह प्लास्टर ऑफ पेरिस कहलाता है। जब इस सूखे प्लास्टर ऑफ पेरिस के साथ पानी मिलाते हैं, तो यह पुनः जिप्सम में बदल जाता है ।

प्लास्टर ऑफ पेरिस के प्रकार क्या हैं ?

प्लास्टर ऑफ पेरिस मुख्य रूप से तीन प्रकार के होते हैं जो आपको निचे दिय हुए है :-

1.जिप्सम प्लास्टर (या पेरिस प्लास्टर)

जिप्सम प्लास्टर को 300 डिग्री फारेनहाइट के तापमान पर गर्म करके बनाया जाता है । इसके अलावा, अगर इसे 392 डिग्री फ़ारेनहाइट से ऊपर गर्म किया जाता है, तो यह निर्जल में बदल जाता है ।

जब जिप्सम प्लास्टर पाउडर या एनहाइड्राइट के साथ पानी मिलाया जाता है, तो यह पुनः जिप्सम में बदल जाता है ।

2.चूना प्लास्टर (Lime Plaster)

रेत, कैल्शियम हाइड्रॉक्साइड और अन्य अक्रिय भरावों का मिश्रण लाइम प्लास्टर है ।

चूना पत्थर को जल्दी से गर्म करके चूना बनाया जाता है और फिर उसमें पानी मिला कर बुझा हुआ चूना बनाया जाता है। इसे अक्सर सफेद पाउडर या गीली पुट्टी कहा जाता है ।

3.सीमेंट प्लास्टर (Cement Plaster)

उपयुक्त प्लास्टर, पोर्टलैंड सीमेंट, रेत और पानी के मिश्रण को सीमेंट प्लास्टर कहा जाता है ।

यह एक चिकनी सतह प्राप्त करने के लिए बाहरी और अंदरूनी हिस्सों पर लगाया जाता है । जिप्सम प्लास्टर की एक अंतिम परत अक्सर सीमेंट प्लास्टर के ऊपर डाली जाती है ।

ये भी पढ़े :-

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Plaster of Paris Ka Sutra या इसका रासायनिक सूत्र (CaSo4) H2O है ।

कैल्शियम सल्फेट (CaSo4 . 2H2O)

कैल्शियम सल्फेट हाफ हाइड्रेट (CaSo4)2 H2O)

प्लास्टर ऑफ पेरिस जिप्सम का अर्द्धहाइड्रेट है । जिसे भट्टियों में गर्म करके तैयार किया जाता है ।

प्लास्टर ऑफ़ पेरिस बनाने के लिए जिप्सम को भट्टी के अन्दर 120–180 °C (248–356 °F) के तापमान पर गर्म किया जाता हैं । इस पूरी प्रक्रिया में तीन चौथाई भाग जल जाता हैं और जलने के बाद जो वस्तु शेष रहती हैं । उसे प्लास्टर ऑफ़ पेरिस कहा जाता हैं ।

Plaster of Paris Ka Sutra | प्लास्टर ऑफ पेरिस का सूत्र क्या है – [Video]

निष्कर्ष

उम्मीद है की आपको Plaster of Paris Ka Sutra के बारे में जानकारी मिल गयी होगी और इसके कितने प्रकार है इसकी जानकारी भी मिल गयी होगी और अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया तो अपने दोस्तों के साथ जरुर से शेयर करे ।

Naresh Kumarhttps://howgyan.com
नमस्कार दोस्तों, मैं नरेश कुमार HowGyan.com का Founder & Author हूँ,आपको इस वेबसाइट पर मैं SEO,Technology और Education के बारे में अपने इस ब्लॉग पर लिखता हूँ अगर आपको इन सभी के बारे में जानकारी चाहिये तो इस ब्लॉग के पोस्ट को जरुर पढ़े ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Posts