HomeJankariGoldfish ka Scientific Naam Kya hai | गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है ?

Goldfish ka Scientific Naam Kya hai | गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है ?

गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है:आज के इस पोस्ट में हम जानने वाले है की Goldfish ka Scientific Naam kya hai और इस समय बहुत से लोग इस टॉपिक को इन्टरनेट पर सर्च कर रहे है पर बहुत ही कम लेख है जो इसके बारे में प्रॉपर जानकारी देते है और वो भी हिंदी भाषा में और गोल्डफिश को सुनहरी मछली के नाम से भी जाना जाता है । 

कई बार आपके सामने Goldfish का Scientific नाम न पूछकर आपसे सुनहरी मछली का साइंटिफिक नाम भी पूछ देता है । गोल्डफिश का वैज्ञानिक नाम कई बार अलग अलग Exams में पूछे जा चुके है । 

goldfish ka Scientific Naam kya hai

यदि आप लोग भी Goldfish का साइंटिफिक नाम जानना चाहते हो तो हमारे इस लेख को पूरा जरूर से पढ़े और Goldfish कैसी प्रजाति की मछली है और Goldfish सबसे पहले किस जगह पर पाई गई थी । 

अनुक्रम दिखाएँ

गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है ? | Scientific Name of GoldFish in Hindi

अगर Goldfish का Scientific नाम की बात करे तो इसे Carassius auratus कहा जाता है । और अगर हिन्दी में देखा जाये तो हिन्दी में Goldfish ka scientific naam कैरासियस ऑराटस है । 

Goldfish को गोल्डन क्रूसियन कार्प भी कहा जाता है और हिंदी में Goldfish को “सुनहरी मछली” कहा जाता है । यह फिश कार्क परिवार का एक सदस्य है और पूर्वी एशिया में इसे सबसे ज्यादा देखने को मिलती है और सर्वप्रथम इसकी खोज 17वी शताब्दी में यूरोप में हुई थी ।

Scientific Name of GoldFish in Hindi -[Video]

गोल्ड फिश (Goldfish) का साइंटिफिक वर्गीकरण

गोल्डफिश का वैज्ञानिक नाम कैरासियस औराटस
हिंदी नामसुनहरी मछली
जातिकैरासियस
निवाश स्थानमीठा पानी
मूल श्रोतचीन
आकार20 Cm
PH रेंज6.5 से 8.5
वजन3 किलो तक
सम्भोग का समयअप्रैल-मई
लंबाई45 सेंटीमीटर तक
भोजनशैवाल,लार्वा,कीट आदि

Goldfish कैसे वातावरण में रहती है ?

Goldfish नरम स्वभाव के होती है और अगर Goldfish को एकदम अनुकूल परिस्थिति मिल जाय तो यह 40 साल तक भी जीवित रह सकती हैं लेकिन अधिकतर ऐसा देखा गया है की एक्वेरियम ये 7-8 वर्ष तक ही जीवित रहती हैं । 

ऐसा कहा जाता है की Goldfish (सुनहरी मछली) को उतना ही भोजन खिलाना चाहिए जितना वो तीन से चार मिनट में खतम कर सकें और वह भी सिर्फ दिन में दो ही बार खिलाना चाहिए और ज्यादा भोजन देने से गोल्डफिश को आंतों में समस्या आ सकती है जिससे वह मर भी सकती हैं ।

Goldfish एक निश्चित तापमान वाले पानी में रह सकती है । तापमान में भारी बदलाव से यह मर सकती है । इनके लिए उपयुक्त पानी का तापमान 18-26 डिग्री सेल्सियस होता है ।

Goldfish का आकार कैसा होता है ?

Goldfish का उपयोग सजावटी मछली के रूप में भी किया जाता है और इसका शरीर लंबा और पंख छोटे होते हैं । इनका शरीर काफी आकर्षक और सुंदर होता है ।

ये करीब 8 इंच के आसपास लंबे होते हैं तथा कभी कभी ये 23 सेंटीमीटर तक के होते हैं । इसके शरीर के रंग लाल, पीले, नीले, बैंगनी, काले, सफेद, तथा रंग बिरंगे होते हैं । चीन गोल्डफिश को पालतू बनाने वाला पहला देश था। इन्हें खाया नहीं जाता है ।

GoldFish कितने साल जिन्दा रहेती है – Goldfish Kitne Year Jita Hai

ऐसा देखा गया है की अगर बहुत अनुकूल परिस्थिति हो तो 40 वर्ष तक भी जीवित रह सकती हैं,लेकिन अधिकतर ऐसा देखा गया है की एक्वेरियम ये 7-8 वर्ष तक ही जीवित रहती हैं । 

GoldFish में बुद्धिमत्ता कैसी होती है ?

सुनहरी मछलीयों को सकारात्मक सुदृढीकरण का उपयोग करके विभिन्न रंगों के प्रकाश संकेतों को पहचानना और उन पर प्रतिक्रिया करने के लिए प्रशिक्षित किया जा सकता है । सुनहरी मछली की स्मृति अवधि कम से कम तीन माह की होती है और यह अलग अलग आकारों, रंगों और आवाजों के बीच अंतर कर सकते हैं । एक और प्रयोग ने 1 महीने से अधिक अवधि तक याद रखने की अवधारण का प्रदर्शन किया ।

मछलीयां भोजन से सम्बंधित कुछ रंगों के प्रति प्रतिक्रिया करती है । मछलीयां भोजन दिए जाने के समय का पूर्वानुमान करना सीख जाती हैं बशर्ते कि भोजन रोज़ लगभग एक ही समय पर दिया जाए सकारात्मक सुदृढीकरण वाले प्रशिक्षण तकनीकें का उपयोग करके सिखाये जाने पर, सुनहरी मछलियां कुछ करतब भी सीखती हैं, जैसे लीम्बो, स्लैलम, फेच और सोकर ।

GoldFish प्रजनन कब करती है ?

सुनहरी मछलियां यौन परिपक्वता को केवल पर्याप्त पानी और सही पोषण के साथ ही विकसित कर सकती हैं । अधिकतर सुनहरीमछलियां कैद में ही प्रजनन करती हैं, विशेष रूप से तालाब व्यवस्था में अच्छी तरह से रखे जाने पर, वे घर के अंदर भी प्रजनन कर सकते हैं, लेकिन एक छोटे मछली प्रपात में नहीं. प्रजनन आमतौर पर तापमान में एक महत्वपूर्ण परिवर्तन के बाद प्रायः वसंत ऋतु में होता है । नर मादाओं का पीछा करते हैं और धक्का मारने और टहोका मारने के द्वारा उसे अंडों को छोड़ने के लिए उत्तेजित करते है ।

Goldfish Ka Scientific Naam Kya Hai
अंडे से अभी अभी निकली सुनहरीमछली फ्राई (रयुकिन)

सभी सिप्रिनीड की तरह सुनहरी मछलियां भी अंडे देती हैं । उनके अंडे चिपकने वाले हैं और जलीय वनस्पति के साथ चिपक जाते हैं, विशेष कर घने पौधों के साथ जैसे काबोम्बा या एलोडिया या एक स्वोनिंग मोप. कैद में, अंडों को अवश्य ही एक अलग टैंक में हटा दिया जाने चाहिए, क्योंकि सामना होने पर वयस्क मछलियां छोटे मछलियों को खा जाती हैं अंडे 48 से 72 घंटे के भीतर फूट जाते हैं ।

अंडे फूट कर निकले हुए बच्चे (फ्राई) इतने बड़े होते हैं कि उन्हें “दो पुतलियों के साथ एक पलक” के रूप में वर्णित किया जाए. एक सप्ताह या वैसे ही समय के भीतर, फ्राई अपना अंतिम आकार लेने लगता है, हालांकि उनके एक परिपक्व सुनहरी मछली जैसा रंग विकसित करने में एक वर्ष से भी अधिक का समय लग सकता है; तब तक वे अपने जंगली पूर्वजों की भांति धातुई भूरे रंग के रहते हैं।

अपने जीवन के पहले सप्ताह में, फ्राई जल्दी विकसित होता है-यह उस उच्च जोखिम का अनुकूलन है जिसके तहत उनके वातावरण में रहने वाले वयस्क मछली (या अन्य मछलियों और कीड़ों) द्वारा उन्हें निगल लिया जाता है ।

कुछ अत्यधिक प्रजन्न सुनहरी मछलियां अपने बदले हुए अकार के कारण अब स्वाभाविक रूप से प्रजनन नही कर पाती. कृत्रिम प्रजनन विधि जिसे अंग्रेजी में “हैंड स्ट्रिपिंग” कहते हैं प्रकृति के लिए सहायक होती है, लेकिन ठीक प्रकार से ना किए जाने पर मछली को नुकसान पहुंचा सकती है ।

गोल्डफिश के रोचक तथ्य | Amazing Fact Of Goldfish 

  • गोल्डफिश आंखे खोलकर सोती है ।
  • गोल्डफिश 35 से 40 सालों तक जीवित रह सकती है ।
  • आज तक दुनिया की सबसे बड़ी सुनहरी मछली एक बिल्ली के समान मिली है ।
  • गोल्डफिश बिना कुछ खाये 21 दिनों से अधिक समय तक जीवित रह सकती है ।
  • इस फिश का दांत इसके गले के पीछे होता है ।
  • गोल्डफिश अपने होठ से स्वाद का अनुभव लेती है जीव से नही ।
  • यह जानकर आपको आश्चर्य होगा कि गोल्डफिश का पेट नही होता शायद इसलिए बिना कुछ खाये 3 हफ़्तों से ज्यादा समय तक जीवित रह सकती है ।
  • गोल्डफिश की याददाश्त बहुत ही शक्तिशाली होती है। यह किसी भी वस्तु को तीन महीने तक याद रख सकती है ।
  • उनकी पलक नहीं होती है ।
  • गोल्डफिश मनुष्यों को पहचान सकती है ।
  • गोल्डफिश अपने ही बच्चों को खा जाती है। इसके अलावा भी यह दूसरी छोटी मछलियों को भी खाती है ।
  • चीन में यह मछली अधिक मिलती है ।

गोल्ड फिश को घर मे रखना शुभ माना जाता है ।

Goldfish ( सुनहरी मछली ) को घर मे रखना बहुत ही शुभ माना जाता है । भारतीय ज्योतिष के अनुसार सुनहरी मछली को घर मे रखने से दुखों का अंत होता है । तथा मन बहुत ही शांत रहता है । गोल्ड फिश को घर में उत्तर या दक्षिण दिशा में रखना चाहिए। तभी शुभ माना जाता है ।

GoldFish (सुनहरी मछली) की किस्में

आपको Goldfish के Scientific नाम के बारे में तो पता चल गया होता और Goldfish भी अलग अलग किस्मो की होती है इसमें से कुछ मुख्य किस्में निचे दिए गये है आप बिस्तर दे देख सकते है ।

  • आम सुनहरीमछली
  • काले मूर
  • बब्ल आई
  • दिव्य आंखें
  • धूमकेतु (कोमेट)
  • फैनटेल (पंखे नुमा पूंछ वाली)
  • सिंह मस्तिष्क
  • ओरानडा
  • पर्लस्केल
  • पोमपोम
  • रयुकिन
  • शुबनकिन
  • दूरबीन आंख
  • रैनचु
  • पांडा मूर
  • वेलटेल
  • तितली पूंछ
  • उल्का सुनहरी मछली
  • लायनचु
  • अंडा मछली सुनहरी
  • शुकिन(Shukin)
  • घुमावदार गिल सुनहरी मछली
  • Tamasaba
  • टोसाकिन
  • सफेद टेलीस्कोप

पालतू सुनहरी मछलियों की किस्में

सदियों से हो रहे चयनित प्रजनन ने कई रंग विविधताओं को उत्पादित किया है, उनमें से कुछ पालतू मछली के मूल “सुनहरे” रंग से भुत दूर होते है। इनमे अलग अलग शारीरिक आकार, पंख और आंखे विन्यास भी पाई जाती है। सुनहरी मछली के कुछ चरम संस्करण एक्वैरियम” में ही रहते हैं- वे जंगली किस्मों से कही कम मज़बूत होते हैं। हालांकि, कुछ किस्में अधिक मजबूत होती हैं जैसे शुबनकिन मुख्य किस्में हैं :

आम सुनहरी मछली

आम सुनहरीमछली अपने पूर्वज प्रशिया कार्प से केवल रंग में अलग होती हैं। आम सुनहरी मछली विभिन्न रंगों में पाए जाते हैं जिसमे लाल, नारंगी/स्वर्ण, सफेद, काले और पीले या ‘नींबू’ रंग शामिल है ।

आम सुनहरी मछली

काले मूर

काले मूर सुनहरी मछली की एक दूरबीन-आखों वाली प्रजाति है जिसकी उभड़नेवाली आंखे उसकी विशेषता है। उसे पोपाये टेलिस्कोप, जापान में कुरो डेमिकिन और चीन में ड्रैगन-आई के नाम से जाना जाता है ।

काले मूर

बब्ल आई

छोटा, फैंसी बब्ल आई के पास ऊपर की ओर इशारा करती हुई आंखें हैं और उसके साथ दो बड़े द्रव्य-भरी थैलियां भी है ।

बब्ल आई

दिव्य आंखें (सेलेस्चिय्ल आई)

सजावटी सेलेस्चिय्ल आई सुनहरी मछली या चोटेन गान एक दोहरी दुम वाला और एक नस्ल-परिभाषित करने वाली ऊपर की ओर पलटी, दूरबीन आखों वाली मछली है जिसकी पुतलियां आकाश की ओर देखती हुई हैं ।

दिव्य आंखें (सेलेस्चिय्ल आई)

धूमकेतु (कोमेट)(सुनहरी मछली)

धूमकेतु या धूमकेतु-पूंछ वाली सुनहरी मछली संयुक्त राज्य अमेरिका में पाए जाने वाली सबसे आम प्रजाति है। थोड़ी पतली या छोटी होने के आलावा, यह आम सुनहरी मछली के समान ही है और यह मुख्य रूप से अपनी लंबी और गहरी कांटे समान पूंछ के कारण अलग से पहचानी जाती है ।

धूमकेतु (कोमेट)(सुनहरी मछली)

फैनटेल (पंखे नुमा पूंछ वाली) सुनहरी मछली

फैनटेल सुनहरी मछली रयुकिन का पश्चिमी रूप है और इसके पास एक अंडे के आकार का शरीर, एक उच्च पृष्ठीय पंख, एक लंबी चौगुनी, पूंछ है और इसके कंधे पर कोई उभार नहीं है ।

फैनटेल सुनहरी मछली

सिंह मस्तिष्क (लायनहेड)(सुनहरी मछली)

सजावटी लायनहेड के पास एक हुड है। यह मछली रैनचु का पूर्वगामी है ।

सिंह मस्तिष्क (लायनहेड)(सुनहरी मछली)

ओरानडा

सजावटी ओरानडा की विशेषता प्रमुख रूप से एक रास्पबेरी-जैसी हुड है (जिसे वेन या सिरवृद्धि के नाम से भी जाना जाता है) और जो आंखें और मुह को छोड़ कर पुरे सिर को ढके हुए रहता है ।

ओरानडा

पर्लस्केल

सजावटी पर्लस्केल या जापानी भाषा में चीनशुरिन का शरीर-गोलाकार और जिसकी पूंछ फैनटेल के समान है ।

पर्लस्केल

पोमपोम (सुनहरी मछली)

सजावटी पोमपोम्स या पोम्पोन या हाना फुसा के नाक के बीच में और सिर के दोनों तरफ खुले मांसल बाहरी ओर उगे हुए रेशों के गुच्छे होते हैं ।

रयुकिन

सजावटी रयुकिन का शरीर छोटा और गहरा है और उसके कंधे का उभार उसकी विशेषता है ।

रयुकिन

शुबनकिन

सजावटी और साहसी जापानी Shubunkins (朱文金?) (जिसका शाब्दिक अनुवाद “लाल ब्रोकेड”) की nacreous स्केलों के साथ एक पूंछ है और शरीर पर कैलिको नामक एक आकृति है ।

शुबनकिन

दूरबीन आंख (टेलिस्कोप आई)

सजावटी दूरबीन आंख या डेमेकिन की विशेषता है उसकी उभड़नेवाली आखें. इसे ग्लोब आई या ड्रेगन आई सुनहरीमछली के नाम से जानी जाती है ।

दूरबीन आंख (टेलिस्कोप आई)

रैनचु

सजावटी जापानी रैनचु हुड वाली है। जापानी इसे “सुनहरी मछलियों के रजा” के नाम से संबोधित करते हैं ।

रैनचु

पांडा मूर

सजावटी पांडा मूर का काली और सफेद आकृति और उभड़नेवाली आंखे उसकी विशेषता है ।

पांडा मूर

वेलटेल

सजावटी वेलटेल अपने अतिरिक्त लंबे, लहराते दोहरे पूंछ के कारण जाना जाता है । आधुनिक वेलटेल मानकों को पूंछ के निकले हुए किनारों के अभिस्थापन की थोड़ी या बिलकुल भी आवश्यकता नहीं होती, जैसा जी एक दुल्हन के विवाह की चुनरी में होती है ।

वेलटेल

तितली पूंछ (बटरफ्लाई टेल)(सुनहरी मछली)

तितली पूंछ मूर या तितली टेलीस्कोप दूरबीन आंख वाले वंश का हिस्सा है, उसके जुडवा पूंछ ऊपर से देखे जाने पर सबसे बेहतरीन लगते हैं। पूंछ का फैला हुआ पंख पानी के नीचे की तितलियों की नकल करती हुई प्रतीत होती है ।

तितली पूंछ (बटरफ्लाई टेल)(सुनहरी मछली)

उल्का सुनहरीमछली

उल्का सुनहरी एक अजीब दिखने विविधता है कि फैंसी ज़र्द मछली के विशेषज्ञ प्रजनक द्वारा विकसित किया गया है। इसका कोई टेल फिन नहीं है, इसलिए इसका नाम है ।

उल्का सुनहरीमछली

लायनचु

Lionchu या लायनहेड-रैनचु एक फैंसी सुनहरी कि crossbreeding से बदल गया है है lionheads और ranchus ।

लायनचु

अंडा मछली सुनहरी

अंडे मछली सुनहरी एक फैंसी ज़र्द मछली है कि एक का अभाव है पृष्ठीय पंख और एक स्पष्ट अंडे के आकार का शरीर है ।

अंडा मछली सुनहरी

शुकिन(Shukin)

Shukin से विकसित एक Ranchu की तरह सुनहरी है Ranchus और Orandas जापान में 19 वीं सदी के अंत में ।

शुकिन(Shukin)

घुमावदार गिल सुनहरी मछली

Curled-गिल या उलट-गिल सुनहरी कि विशेषज्ञ द्वारा विकसित किया गया फैंसी ज़र्द मछली की एक और असामान्य किस्म है उत्साही । इसका नाम इसके गिल कवर के बाहरी रूप से दिखने के कारण पड़ा है ।

घुमावदार गिल सुनहरी मछली

Tamasaba

Tamasaba या Sabao एक असामान्य है जापानी एक शरीर के साथ सुनहरी की विविधता के लिए इसी तरह के आकार का रयुकिन और एक बहुत लंबे, बह, एक पूंछ है कि एक के समान है धूमकेतु सुनहरी , इसलिए इसका दूसरा नाम, धूमकेतु -tail रयुकिन ।

Tamasaba

टोसाकिन

Tosakin क्षैतिज कि फैलता बाहर (एक प्रशंसक की तरह) मछली के पीछे पंख एक बड़ी पूंछ के साथ सुनहरी मछलियों के एक बहुत विशिष्ट नस्ल, अपनी दुम फिन के पीछे तह नीचे सुझावों के बाद है । हालांकि तकनीकी रूप से एक विभाजित पूंछ, दो हिस्सों को केंद्र/मध्य में एक ही पंख बनाने के लिए जोड़ा जाता है ।

टोसाकिन

सफेद टेलीस्कोप

व्हाइट दूरबीन की एक सफेद संस्करण है दूरबीन सुनहरी एक सफेद शरीर और आंखों फैला हुआ की एक विशेषता जोड़ी है ।

सफेद टेलीस्कोप

Gold Fish की देखभाल कैसे करें

गोल्डफिश ही नहीं सभी तरह की मछलियों की उत्तम देखभाल बहुत जरूरी है। गोल्डफिश की देखभाल के लिए आपको सबसे पहले अपनी मछली के रहने के लिए कांच का एक्वेरियम लगाना होगा अगर आप एक्वेरियम नही लगाना चाहते तो किसी कांच के बड़े बाउल में भी मछली को रख सकते है । एक्वेरियम में सभी प्राकृतिक चीजों को भी लगाना चाहिए जो समुद्र में पाई जाती है। इन सभी प्राकृतिक चीजों के लिए आप अपने आसपास के फिश शॉप पर जा सकते हैं ।

Goldfish के लिए एक्वेरियम का चुनाव

हमारा सुझाव है कि एक्वेरियम या बाउल, आप जो भी चुनें, ये जरूर धयान रखें कि वह जितना बड़े साइज का होगा उतना ही आपकी मछली ज्यादा समय तक जीवित रहेगी । मछलियों का साइज़ भी एक्वेरियम के साइज़ पर निर्भर करेगा ।

क्या हो गोल्डफिश का साईज़

छोटे इंडोर एक्वेरियम में गोल्डफिश का साईज़ 1 से 2 इंच का होता है अगर आप थोड़ा बड़ा एक्वेरियम लगाते है तो मछली का साईज़ 6 इंच तक बढ़ सकता है । आउटडोर पॉन्ड्स (Outdoor Pond) में रहने वाली गोल्डफिश का साईज़ 14 इंच तक होता है ।

कैसे करें एक्वेरियम की सजावट

एक्वेरियम को सुंदर और आकर्षक बनाने के लिए आप अपने एक्वेरियम को अपने हिसाब से आर्टिफिशियल प्लांट्स वगैरह लगा कर सजा सकते हैं । आर्टिफिशियल प्लांट्स या प्राकृतिक चीजों से गोल्डफिश को बिल्कुल समुद्र के जैसा वातावरण मिलेगा जिससे मछली एक्वेरियम में सहज रूप से रह सकेंगी ।

एक्वेरियम की साफ सफाई पर ध्यान दें

गोल्डफिश को ज्यादा समय तक जीवित रखने के लिए आपको एक्वेरियम की, कम से कम 1 हफ्ते या दस दिन में सफाई करनी चाहिए । साफ सफाई करते हुए आपको कुछ चीजों पर ध्यान देना होगा जैसे की पानी की सफाई करते समय आपको सारा पानी नहीं बदलना चाहिए ।

यदि आप हफ्ते में एक बार मछली के टैंक की सफाई करते है तो आपको टैंक का सिर्फ 10 या 15 प्रतिशत पानी ही बदलना चाहिए और अगर आप टैंक की साफ सफाई 15 या 20 दिन में करते है तो आपको केवल 30 से 50 प्रतिशत पानी बदलना होगा ।

Goldfish के लिए खाने की मात्रा

इसके साथ आपको आपकी गोल्डफिश के खाने का भी पूरा खयाल रखना होगा । मछली के खाने के लिए आप किसी भी पालतू जानवरों की शॉप पर जा कर गोल्डफिश के लिए फिश फूड खरीद सकते है और दुकानदार से सलाह भी ले सकते है कि आप अपनी मछली को कब और कितना खाना दे सकते है । गोल्डफिश को आप एक निश्चित मात्रा में ही खाना दें । अधिक मात्रा में खाना देने से गोल्डफिश बीमार पड़ सकती है या उसकी मृत्यु भी हो सकती हैं ।

कैसे करें गोल्डफिश का उपचार

कोई भी मछली पालने के लिए आपको उसका पूरा ध्यान रखना होगा। आप मछली के व्यवहार को समझने की भी कोशिश करें । अगर आपको मछली का व्यवहार ज़रा सा भी अलग लगे तो आप तुरंत समझ सकते है की मछली बीमार है और उसका उपचार भी कराऐं । यदि आपको लगता है की आपकी गोल्डफिश या अन्य मछलियां बीमार है तो आप उन्हें तुरंत किसी Aquaculture Veterinarian को दिखा कर उनका उपचार कराऐं ।

ये भी पढ़े :-

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Goldfish का Scientific नाम Carassius auratus है ।

Goldfish को हिंदी में “सुनहरी मछली” कहा जाता है ।

Goldfish ज्यादातर चीनी तालाबों में, एक्वैरियम के बाहर, घाटियों और दलदलों में पाई जाती है। आमतौर पर यह स्थिर या धीमी गति से बहने वाले पानी में पाई जाती है ।

जब Goldfish को सीसे के जार में रखा जाय तो यह लगभग 5 सालों तक जीवित रहती है । अन्यथा जब इन्हें प्रयाप्त मात्र में भोजन और सही पानी मिले तो इनका जीवनकाल 10 से 15 सालों तक का होता है । हालांकि एक Goldfish के अधिकतम 40 सालों तक जीवित रहने का रिकॉर्ड है ।

सुनहरी मछली सर्वाहारी होती हैं। पौधों के अलावा, वे सामान्य मछली खाते हैं । उन्हें जलीय पौधे, मच्छर के लार्वा, पानी के पिस्सू, कीड़े, दलिया, मक्का या अंडे की जर्दी भी पसंद होती है ।

आमतौर पर Goldfish भोजन के बिना दो सप्ताह तक रह सकती है । रिकॉर्ड पर भोजन के बिना गोल्डफिश का सबसे लंबा जीवन साढ़े 4 महीने है ।

गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है | Scientific Name of GoldFish in Hindi -[Video]

अंतिम शब्द

तो दोस्तों आपको पता चल गया होगा की Goldfish का Scientific नाम क्या है और GoldFish के बारे में जो जानकारी दी गयी है वो आपको पसंद आयी होगी और अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूले । और अगर आपके मन में इस आर्टिकल को लेकर कोई भी सवाल है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में लिख कर बता सकते है ।

Naresh Kumarhttps://howgyan.com
नमस्कार दोस्तों, मैं नरेश कुमार HowGyan.com का Founder & Author हूँ,आपको इस वेबसाइट पर मैं SEO,Technology और Education के बारे में अपने इस ब्लॉग पर लिखता हूँ अगर आपको इन सभी के बारे में जानकारी चाहिये तो इस ब्लॉग के पोस्ट को जरुर पढ़े ।

3 COMMENTS