HomeHow ToPF Kya Hota Hai | पीएफ क्या होता है ?

PF Kya Hota Hai | पीएफ क्या होता है ?

नोकरी करने वाले को पता होता है की EPFO Kya Hota Hai ,अगर पीएफ की Full Form की बात करे तो (Employee Provident Fund) होता है ,अगर आप सरकारी नोकरी करते है या फिर प्राइवेट नोकरी करते है तो आप को पीएफ की सुविदा दी जाती है,परन्तु बहुत से लोगो को पीएफ के बारे में नहीं पता होता है ।

PF Kya Hota Hai

आज में आपको पीएफ  की जानकारी हिंदी भाषा में देने वाला हु जिससे आपको पीएफ  के बारे में सभी जानकारी के बारे में पता चल जायगा अगर आपके हाल ही में नोकरी की सुरुयात की है तो आपको पीएफ  के बारे में पता होना चाहिये ।

कर्मचारी के लिए पीएफ बहुत फायदेमंद  होता है,पीएफ  केवल सेविंग करने का एक अच्छा तरीका ही नहीं आप कई तरह के टैक्स से भी छुट भी मिलती है और आपको इसमें बैंक से भी ज्यदा ब्याज भी मिलता है ।

आप पीएफ  का पैसे आप Retiremet या फिर नोकरी छोड़ने पर निकाल  सकते है मगर आप पीएफ  का पैसे एडवांस भी निकाल सकते हो,इसके लिए कुछ टर्म्स एंड कंडीशन है उससे फॉलो करके आप पीएफ से पैसे निकल सकते हो  ।

PF और EPF क्या है

जो लोग सरकारी या फिर प्राइवेट नोकरी करते है उनको पीएफ  और  इपीएफ के बारे में पता होगा ,क्युकी पीएफ का Full Form Provident Fund  और इपीएफ  का Full Form Employee Provident Fund  होता है, कुछ लोग इसे PF और कुछ लोग इसे EPF भी कहेते है दोनों का मतलब एक ही होता है ।

PF एक सरकारी योजना है जिससे कर्मचारी भविष्य निधि संगठन कहा जाता है इसकी स्थापना 1952 में हुए थी और इसकी अध्यक्षता भारत के केंद्रीय श्रम मंत्री करतें हैं ।

अगर किसी कंपनी में 20 या उससे आधिक कर्मचारी काम करते है तो PF में अकाउंट होना जरुरी होता है ,आपके सैलरी से कुछ भाग काट के आपके PF अकाउंट में डाला जाता है ।

PF में  कितने प्रतिशत जमा होता है

PF Kya Hota Hai

बहुत से लोगो को यह पता नहीं होता है की उनकी सैलरी से कितना प्रतिशत PF में जा रहा है और कंपनी से तरफ से कितना पैसे जमा करवाया जाता है ।

आपको बता दे आपकी सैलरी का 12 प्रतिशत  PF में काटा जाता है और आपके कंपनी के द्वारा 12 प्रतिशत  रकम आपके PF में जमा करवाई जाती है जिसमे कुछ परसेंट आपके पेंशन में भी डाला जाता है ,जो आप रिटायरमेंट या फिर नोकरी छोड़ने पर निकाल सकते है ।

अगर कुल मिलकर बात करे तो आपका 24 प्रतिशत  आपके PF में जमा होता है ,आपके यह जानकर खुसी होगी की इस पैसे पर आपको कोई टैक्स नहीं लगता है ,जब आप अपने पैसे निकालते है तब भी आपको टैक्स नहीं देना पड़ता है  ।

PF पर सरकार के द्वारा ब्याज भी दिया जाता है ,जो की आपके बैंक या फिर आपको कोई भी स्कीम से जायदा होता है ,अगर आज की तारिक की बात करे तो आपको 8.50 प्रतिशत  ब्याज मिलता है ये ब्याज आपको 2020-2021 के लिए मीलेगा ।

ये भी पढ़े :-

PF के फायदे क्या  है 

  • अगर आप नोकरी करते है तो PF के बहुत से फायदे होते है, यह सेविंग का एक अच्छा  तरीका है और आपको कई तरह के फायदे मिलते है :-
  • फ्री Insurance मिलता है
  • EDLI यानी Employee Deposit Linked Insurance  के तहत आपको PF अकाउंट खुलते ही आपको 6 लाख रु तक का Insurance मिलता है ।
  • टैक्स फ्री सुविधा
  • PF में जमा राशी पूरी तरह से टैक्स फ्री होती है इसमें किसी भी प्रकार का टैक्स नहीं लगता है,और अगर आप पैसे निकालते है तो उसमे भी टैक्स नहीं लगता है ।
  • आसानी से पैसे निकलना
  • आप जब चाहे अपने PF अकाउंट से पैसे निकाल सकते हो ,बस आपको कुछ टर्म्स एंड कंडीशन का ख्याल रखना होगा ,और कुछ खास परिस्थितियों  में आप PF से 90 प्रतिशत  तक पैसे निकल सकते हो ।
  • पैसे सेव करने का बहतरीन तरीका
  • PF में पैसे सेविंग करने का बहुत अच्छा तरीका है इसमें आपको काफी अच्छा  ब्याज मिलता है जो की बैंक से अच्छा   होता है इसमें आपको 8.50 प्रतिशत  ब्याज  मिलता है और आपको कोई टैक्स भी नहीं देना पड़ता है ।
  • UAN नंबर
  • PF अकाउंट बनने के बाद आपको अपने PF नंबर को UAN यानि की Universal Account Number से लिंक करना होता है उससे आप PF पर अपने KYC Detail डाल सकते हो और आप अपने पैसे को निकाल भी सकते हो और अपने अकाउंट को किसी और PF अकाउंट से लिंक भी कर सकते हो अगर अपने नोकरी Change की हो तब ।
  • कर्मचारी की पेंशन स्कीम
  • जो लोग कंपनी में काम करते है उनके PF में कंपनी की तरफ से 12 प्रतिशत  डाला जाता है जिसमे कुछ प्रतिशत   पेंशन सकीम में भी डाला जाता है यह पैसे आप जब रिटायरमेंट के बाद पेंशन के रूप में निकाल सकते है अगर अपने 10 साल से कम किसी कंपनी में काम किया हो तब आप अपना पेंशन का पैसे पूरा एक साथ निकल सकते हो ।
  • PF बैलेंस कैसे चेक करते है 
  • दोस्तों आपको PF के बारे में काफी कुछ पता चल गया होगा तो आपके कुछ सवाल का जवाब मिल गया होगा और आप अपने PF बैलेंस को कैसे चेक कर सकते हो :-
  • SMS द्वारा आप अपने बैलेंस को चेक कर सकते है ।
  • SMS EPFOHO<UAN><LAN>   to 7738299899
  • मिस्ड कॉल के द्वारा आप बैलेंस चेक कर सकते है ।
  • 01122901406
  • मोबाइल एप्प द्वारा बैलेंस चेक कर सकते है ।
  • UAN नंबर और EPF पासबुक डाउनलोड करके बैलेंस चेक कर सकते है ।
  • उपर बतया तरीका से आप अपने PF का बैलेंस चेक कर सकते है ,और कुछ टर्म्स और कंडीशन का ख्याल रखकर आप पैसे निकल सकते है ।
  • तो दोस्तों उम्मीद करता हु की आपको PF के बारे में बहुत कुछ पता चल गया होगा और आपको अपने PF अकाउंट को मैनेज करने में सहायता मिल गयी होगी अगर आपको कुछ भी पूछना है तो जरुर निचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है ।

FAQ

PF का full form यानी पूरा नाम Provident Fund और ईसे EPF के नाम से भी जानते है. EPF का पूरा नाम Employee Provident Fund है. यह सरकार द्वारा चलाई जाने वाली एक योजना है जिसकी देख रेख “कर्मचारी भविष्य निधि” यानि EPFO (Employee Provident Fund Organization) रखता है ।

EPF पर कितना मिलता है ब्याज और कैसे होती है इसकी गणना, जानें यहां दिसंबर 2020 में केंद्र सरकार ने वित्त वर्ष 2019-20 के लिए ईपीएफ पर ब्याज कर्मचारी भविष्य निधि के सदस्यों के खातों में भेजने की घोषणा की थी। सरकार ने 2019-20 के लिए ईपीएफ पर ब्याज 8.5% तय किया है ।

एम्प्लॉई की तरफ से बेसिक सैलरी का 12 पर्सेंट ईपीएफ में, कंपनी की ओर से बेसिक सैलरी का 8.33 पर्सेंट पेंशन अंशदान (ईपीएस) में और बेसिक सैलरी का 3.67 पर्सेंट ईपीएफ में। PF नंबर- कंपनी जॉइन करते ही आपका एक पीएफ नंबर बन जाता है। यह नंबर ही आपका पीएफ अकाउंट नंबर होता है ।

पीएफ मेंबर की उम्र 25 साल
बेसिक सैलरी 10,000 रुपए
इंटरेस्‍ट रेट 8.65%
सैलरी में सालाना इजाफा 10%
कुल फंड 1.48 करोड़ रुपए

अब पीएफ से पैसा निकालने के लिए दफ्तरों के चक्कर नहीं लगाने होंगे। आपका पीएफ का पैसा आवेदन करने के बाद अकाउंट में सीधे करीब 5 से 10 दिन में आ जाएगा ।

रिटायरमेंट के लिए जरूरी पैसा 1.18 करोड़ 1.18 करोड़
कब से निवेश करें (उम्र) 30 40
रिटायर होने तक अवधि 30 20
रिटर्न अनुमान (प्रतिशत में) 12 12
इतने की मासिक बचत 3900 13000

ईपीएफ नियमों के तहत नियोक्ता को कर्मचारी की बेसिक सैलरी का 12 फीसदी ईपीएफ में रखना पड़ता है. ईपीएफ के लिए सैलरी की अधिकतम सीमा अभी 15,000 रुपये प्रति माह है. इसलिए ईपीएस में अधिकतम योगदान 1250 रुपये प्रतिमाह है ।

एक उदाहरण से हम समझ सकते हैं कि ईपीएफ खाते में ब्याज की गणना कैसे की जाती है ।
  1. कर्मी का मूल वेतन (बेसिक सैलरी) + महंगाई भत्ता (डीए) = 15 हजार रुपये
  2. ईपीएफ में एम्प्लॉयी का योगदान = 15 हजार रुपये का 12% = 1800 रुपये
  3. एम्प्लॉयर्स का ईपीएफ में योगदान = 15 हजार रुपये का 3.67 फीसदी = 550.5 ।

CONCLUSION

उम्मीद करता हु की आपको PF क्या है इसके बारे में पता चल गया होगा और अगर फिर भी आपके मन में कोई सवाल है तो आप हमें कमेंट कर सकते है और मैं जरुर से आपका जवाब दूंगा और अगर आपको यह आर्टिकल्स पसंद आया तो आप अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते है ।

Naresh Kumarhttps://howgyan.com
नमस्कार दोस्तों, मैं नरेश कुमार HowGyan.com का Founder & Author हूँ,आपको इस वेबसाइट पर मैं SEO,Technology और Education के बारे में अपने इस ब्लॉग पर लिखता हूँ अगर आपको इन सभी के बारे में जानकारी चाहिये तो इस ब्लॉग के पोस्ट को जरुर पढ़े ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here